मेडिकल विश्वविद्यालय से सुदृढ़ होंगी स्वास्थ्य सुविधाएं: विपिन परमार

कुल्लू. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री विपिन सिंह परमार ने कहा है कि राज्य सरकार प्रदेशवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए कृतसंकल्प है. इसके लिए राज्य सरकार ने लोक सेवा आयोग के माध्यम से 300 डाक्टरों की भर्ती के अलावा आयुर्वेदिक विभाग में अनुबंध आधार पर आयुर्वेदिक चिकित्सकों के 200 पदों को भरने का निर्णय लिया है.

शुक्रवार को मनाली उपमंडल के गांव धुड़दौड़ में सेवा भारती के योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र के शिलान्यास के बाद जनसभा को संबोधित करते हुए विपिन परमार ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अफोरडेबल हेल्थ योजना के तहत लोगों को निशुल्क स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए वार्षिक बजट में 12 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है.

उन्होंने कहा कि मंडी क्षेत्र में मेडिकल विश्वविद्यालय की स्थापना से जिला मंडी के अलावा कुल्लू, लाहौल-स्पीति और चंबा जिले के जनजातीय क्षेत्र पांगी के लोग भी लाभान्वित होंगे. इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री ने सेवा भारती योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र के लिए दो लाख रुपये देने की घोषणा भी की.

इस अवसर पर वन, परिवहन, युवा सेवाएं और खेल मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश के जंगलों और पर्यावरण को स्वच्छ बनाए रखने के लिए सरकार ने व्यापक कदम उठाए हैं. जंगलों की सुरक्षा करना सबका सामूहिक दायित्व है. योग और प्राकृतिक चिकित्सा के साथ-साथ अध्यात्मिक दृष्टि से भी स्वच्छ वातावरण अति आवश्यक है. वन मंत्री ने योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र के लिए 11 लाख रुपए देने की घोषणा भी की.

इस मौके पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य सुहास हीरे मठ, प्रांत संघ चालक वीर सिंह रांगड़ा और पूर्व सांसद अमर सिंह ने भी अपने विचार रखे. कार्यक्रम में बंजार के विधायक सुरेंद्र शौरी, जिला भाजपा अध्यक्ष भीमसेन शर्मा, सीएमओ सुशील चंद्र शर्मा और अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित थे.