मिलिए हिमाचल की पहली महिला ट्रक ड्राइवर नील कमल ठाकुर से

महिला ट्रक ड्राइवर-मिलिए हिमाचल की पहली महिला ट्रक ड्राइवर नील कमल ठाकुर से
अपने ट्रक के साथ नील कमल ठाकुर

सोलन. अर्की की रहने वाली नील कमल के संघर्षों की कहानी जिसने भी सुनी उसने अपने दांतों तले उंगली दबा ली. नील कमल ने वह कर दिखाया है जो अच्छे-अच्छे पुरुष नहीं कर पाते. आप को बता दें कि नीलकमल के पति की मृत्यु एक दुर्घटना में हो गई थी. जिसके बाद उनके घर की जिम्मेवारी उन पर आ गई. उनके पति उनके लिए दो ट्रक छोड़ गए थे. जिनके माध्यम से वह अपने घर का पालन पोषण कर सकती थीं, लेकिन अक्सर ट्रक चालकों की कमी रहती थी. उनका बर्ताव भी उनके प्रति ठीक नहीं था. ऐसे में नील कमल को भारी घाटा उठाना पड़ता था. यही वजह थी कि नील कमल ने खुद ही ट्रक चालक बनने का निर्णय लिया, ताकि मुनाफा भी कमाया जा सके और घर की जिम्मेवारी को भी ठीक से निभाया जा सके.

नील कमल ने बताया कि जब वह ट्रक के लाइसेंस के लिए ट्रायल देने गई तो किसी ने भी उन पर यकीन नहीं किया लेकिन उनके हौसले बुलंद थे. इसलिए उन्होंने निडरता से ट्रायल दिया जिसमें वह कामयाब रही. अब वह न केवल हिमाचल बल्कि साथ लगते राज्यों में भी समान लेकर जाती आती हैं.

उन्होंने कहा कि उन्होंने कभी भी अपने साथ कोई परिचालक नहीं रखा और अगर सफर के दौरान रात हो जाती है, तो वह ट्रक में ही रात बिताना पसंद करती है. वह जहां भी सामान लेकर जाती है उन्हें देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ जाती है. जो रास्ता उन्होंने अपने घर को चलाने के लिए चुना है. उस पर उन्हें और उनके परिवार को फक्र है.

कॉमेंट करें

अपनी टिप्पणी यहाँ लिखें
अपना नाम यहाँ लिखें