विशाखापट्टनम मामले पर एमएचए और एनडीएमए के अधिकारी रख रहे नजर : पीएम

11 मई को पीएम राज्यों के सीएम के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बैठक - Panchayat Times
प्रतीक चित्र

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में जहरीली गैस के रिसाव की घटना पर दुख व्यक्त करते हुए लोगों के जल्द स्वस्थ होने की काम की है. साथ ही उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले पर कड़ी नजर रखने तथा तुरंत कदम उठाने को लेकर गृह मंत्रालय और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) से संपर्क किया है.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, ‘विशाखापट्टनम की स्थिति के बारे में एमएचए और एनडीएमए के अधिकारियों से बात की, जिस पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है मैं विशाखापट्टनम में सभी की सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रार्थना करता हूं.’

वहीं, गृहमंत्री अमित शाह ने भी विशाखापट्टनम की घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए इस परेशान करने वाला बताया है. उन्होंने कहा कि एनडीएमए के अधिकारियों एवं संबंधित विभागीय अधिकारियों से बात की गई है. स्थिति पर लगातार और बारीकी से नजर रखी जा रही है. उन्होंने विशाखापट्टनम के लोगों के जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना भी की.

उल्लेखनीय है कि आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक फार्मा कंपनी एलजी पॉलिमर से खतरनाक जहरीली गैस रिसाव के कारण पांच लोगों की मौत हो गई है, जबकि 300 से ज्यादा लोगों को सिर दर्द, उल्टी और सांस लेने में तकलीफ की वजह से अस्पताल पहुंचाया गया है. इनमें 20 लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है.

बता दें कि आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गुरुवार को एक रासायनिक संयंत्र से गैस का रिसाव हो जाने के कारण एक बच्चे समेत कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा.

अधिकारियों ने बताया कि यह हादसा एलजी पॉलिमर संयंत्र में हुआ है जो गोपालपट्नम इलाके में स्थित है. इस इलाके के लोगों ने आंखों में जलन, सांस लेने में तकलीफ, जी मचलाना और शरीर पर लाल चकत्ते पड़ने की शिकायत की.