दूसरे राज्यों से झारखंड लौट रहे प्रवासी मजदूरों से राज्य में कोरोना संक्रमण का बढ़ा खतरा

दूसरे राज्यों से झारखंड लौट रहे प्रवासी मजदूरों से राज्य में कोरोना संक्रमण का बढ़ा खतरा - Panchayat Times
प्रतीक चित्र

रांची. दूसरे राज्यों से झारखंड लौट चुके या लौटने वाले प्रवासी मजदूरों से राज्य में कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ गया है. राज्य सरकार अधिकारी भी इसे मान रहे हैं. इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि वापस लौट रहे बड़ी संख्या में मजदूर उन राज्यों से लौट रहे हैं, जो कोरोना के रेड जोन में आता है. इसके साथ ही, आने वाले मजदूर बड़ी संख्या में मुंबई और गुजरात जैसे उन राज्यों से भी लौटे हैं, जहां यह वायरस विकराल रूप ले चुका है.

राज्य में अबतक 50 हजार से ऊपर की संख्या में झारखंड लौटे मजदूर

शुक्रवार को भी तेलंगाना और अन्य राज्यों से बड़ी संख्या में मजदूर लौटे हैं. चिंता की बात यह है कि बाहर से लौट रहे मजदूरों की अभी थर्मल स्क्रीनिंग ही हो रही है. इसमें किसी प्रकार लक्षण पाए जाने पर ही उनकी कोराना जांच हो रही है. डॅाक्टर इसे पर्याप्त नहीं मानते, क्योंकि राज्य में अबतक जो मामले आए हैं, उनमें से 80 फीसद से अधिक में इसके लक्षण संक्रमण मुक्त होने तक सामने नहीं आए.

दूसरे राज्यों से झारखंड लौट रहे प्रवासी मजदूरों से राज्य में कोरोना संक्रमण का बढ़ा खतरा- Panchayat Times

होम क्वारंटाइन की कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं

दूसरे राज्यों से लौटने वाले प्रवासी मजदूरों को होम क्वारंटाइन में रहने की छूट देने से भी संक्रमण का खतरा बढ़ा है. वहीं, होम क्वारंटाइन की निगरानी की कोई पुख्ता व्यवस्था अभी तक नहीं हो पाई है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी कई मौके पर बोल चुके हैं कि आने वाले दिनों में और सतर्कता की जरूरत होगी, जब बड़ी संख्या में प्रवासी अपने राज्य लौटेंगे. यही वजह है कि राज्य में लॉकडाउन में कोई ढील नहीं दी गई. मुख्य सचिव सुखदेव सिंह भी सीमावर्ती जिलों में जांच में तेजी लाने के निर्देश संबंधित उपायुक्तों को दे चुके हैं.

दूसरे राज्यों से झारखंड लौट रहे प्रवासी मजदूरों से राज्य में कोरोना संक्रमण का बढ़ा खतरा - Panchayat Times

राज्य में हिंदपीढ़ी को छोड़ दें तो अधिक मामले में संक्रमण वैसे मजदूरों में मिला है, जो लॉकडाउन में ही दूसरे राज्यों से भागकर झारखंड लौटे हैं. गिरिडीह, हजारीबाग, देवघर, जामताड़ा, पलामू के अलावा बोकारो में संक्रमण के कुछ ऐसे ही मामले सामने आए. पलामू में मिले संक्रमण के आठ मामले में भी मजदूर छत्तीसगढ़ से भागकर वहां से लौटे थे.

दूसरे राज्यों से झारखंड लौट रहे प्रवासी मजदूरों से राज्य में कोरोना संक्रमण का बढ़ा खतरा- Panchayat Times

झारखंड वापस लौट रहे प्रवासी मजदूर अब बने बड़ी चिंता

अबतक लगभग 50 हजार से अधिक मजदूर झारखंड लौट चुके हैं. जबकि हजारों प्रवासी अभी आने बाकी हैं. ऐसे में रेड जोन से आ रहे इन प्रवासियों की जांच में छोटी सी चूक खतरनाक साबित हो सकता है.