मनरेगा मजदूरों को 1 महीने से नहीं मिली मजदूरी

मनरेगा मजदूरों को 1 महीने से नहीं मिली मजदूरी-Panchayat Times
प्रतीक चित्र

रांची. गरीबी उन्मूलन की लोकप्रिय योजनाओं में शुमार मनरेगा झारखंड में दम तोड़ते प्रतीत होती है. राज्य के मनरेगा मजदूरों को जहां लगभग 1 महीने से मजदूरी नहीं मिली है, वहीं बकरी शेड, मुर्गी शेड, वर्मी कंपोस्ट टैंक आदि के निर्माण में इस्तेमाल हुए सामग्री मद में चार-पांच महीने से भुगतान नहीं हुआ है.

इन दिनों मदो में सरकार पर करोड़ों की देनदारी है इतना ही नहीं पिछले तीन चार महीने में से कई जिलों के सैकड़ों मनरेगा कर्मियों को मानदेय तक नहीं दिया गया है. मजदूरी मद में सर्वाधिक 76.62 लाख बकाया गिरिडीह के मजदूरों का है.

बताते चलें कि मनरेगा के तहत झारखंड में कुल 48. 72 जॉब कार्ड जारी किए गए हैं. इनमें महज 26लाख जॉब कार्ड ही सक्रिय है.मनरेगा मजदूरों की बात करें तो निबंधित 85.89लाख मजदूरों में से 33.63 लाख ही सक्रिय है और तो और साल में कम से कम 3 महीने के रोजगार की गारंटी देने वाले इस कानून के तहत चालू वित्तीय वर्ष के इन 10 महीनों में महज 18490 ग्रामीणों को ही 100 दिनों का रोजगार मिल पाया है. 18490 ग्रामीणों को ही 100 दिनों का रोजगार मिल पाया है.

जिला मजदूरी सामग्री
बोकारो 38.61 714.91
चतरा 24.8 1044.28
देवघर 26.29 946.46
धनबाद 34.82 367.95

रांची 34.98. 951.95
खूंटी 8.7 98.79
हजारीबाग 32.01 837.86
गुमला 32.95 667.45

माध्यमPT DESK
शेयर करें