मोदी बोले, कांग्रेस सोचती है कि हमारी विरासत चायवाला कैसे चुरा ले गया?

मोदी बोले, कांग्रेस सोचती है कि हमारी विरासत चायवाला कैसे चुरा ले गया?
फाइल फोटो : नरेंद्र मोदी

अंबिकापुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को पीजी कॉलेज मैदान अंबिकापुर में चुनाव सभा को संबोधित किया. इस दौरान वह नए अंदाज में नजर आए. सभा की शुरुआत में उन्होंने सरगुजा का पारंपरिक वाद्ययंत्र मांदर को करीब 20 सेकंड तक बजाया. मोदी ने सोनिया गांधी, राहुल गांधी और टीएस सिंहदेव पर निशाना साधते हुए कहा कि राजदरबारियों को एक ही परिवार के गीत गाने की आदत हो गई है. ऐसे लोगों को अब अंबिकापुर की जनता ही सबक सिखाएगी.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी को नींद नहीं आ रही है कि हमारे परिवार की विरासत हमारी राजगद्दी को ये चायवाला कैसे चुरा ले गया. हालांकि इस दौरान उन्होंने गांधी परिवार का नाम नहीं लिया. उन्होंने पहले चरण में हुए मतदान को लेकर बस्तरवासियों की तारीफ भी की. 20 नवंबर को पहले दौर में 18 सीटों पर 76.28 फीसदी वोटिंग हुई थी, जो पिछली बार से करीब 0.35 फीसदी ज्यादा है. 2013 में 75.93 प्रतिशत मतदान हुआ था.

नरेंद्र मोदी ने कहा कि एक तरफ बम-बंदूक का भय दिखाया जा रहा था. लोगों को मौत के घाट उतार कर लोकतंत्र का गला दबोचने की कोशिश की जा रही थी. दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ की जनता ने पहले चरण में भारी मतदान कर भारत के लोकतंत्र की ताकत को सिद्ध कर दिया है. आप भी वोटिंग के सारे रिकॉर्ड तोड़कर हिंसा करने वालों को करारा जवाब दीजिए. दूसरे चरण में 20 नवंबर को बाकी 72 सीटों पर मतदान होना है. परिणाम 11 दिसंबर को आएंगे. मोदी ने कहा कि मेरा प्रधानमंत्री बनने का श्रेय जनता को जाता है.

मोदी बोले, कांग्रेस सोचती है कि हमारी विरासत चायवाला कैसे चुरा ले गया?

कांग्रेस का मानना है कि पंडित नेहरू के कारण ही एक चायवाला पीएम बना, तो एक काम कीजिए, पांच साल के लिए कांग्रेस एक परिवार के बाहर के किसी कांग्रेसी को कांग्रेस अध्यक्ष बना दे, तो मैं मान लूंगा कि नेहरू जी के कारण ही कोई आम कांग्रेसी भी कांग्रेस का अध्यक्ष बन पाया. पिछले दिनों कांग्रेस नेता शशि थरुर ने कहा था कि नेहरू की नीतियों की वजह से एक चाय वाला प्रधानमंत्री बन पाया. एक चायवाला प्रधानमंत्री बन गया. इसके लिए कांग्रेस 125 करोड़ लोगों को श्रेय देने को तैयार नहीं है। ये उनकी अलोकतांत्रिक मानसिकता का परिणाम है. अगर लोकतंत्र में श्रद्धा है तो चाय वाले का प्रधानमंत्री बनने का यश ना मोदी को जाता है और ना ही भाजपा को जाता है, उसका यश देश की जनता को जाता है.

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव: प्रथम चरण की 18 सीटों पर 56.58 प्रतिशत मतदान

कांग्रेस एक बाबा की तरह बोलती है

नरेंद्र मोदी ने कहा कि कांग्रेस का कल्चर समझिए, बोलने में क्या जाता है. आना तो है नहीं. आपने टीवी पर एक बाबा को देखा होगा. वह कहते हैं पकौड़े खाए थे, पकौड़े खाओ कृपा हो जाएगी. आपने क्या किया, दूध पीते हो या नहीं. दूध पीना शुरू कर दीजिए कृपा हो जाएगी. कांग्रेस भी ऐसे ही वादा करती है. उसे कहने में कुछ नहीं जाता है. वह अपने वादों को कभी पूरा नहीं कर पाई.

 बस्तर वालों की तारीफ कीजिए

मेरे लिए जब अंबिकापुरवासियों ने सभा के लिए लाल किले की प्रतिकृति बनाई थी, तो दिल्ली में बैठी सरकार की नींद उड़ गई थी. पहले चरण की वोटिंग को देखकर भी नींद उड़ गई है. बस्तरवासियों ने मतदान को लेकर जो उत्साह दिखाया. उसकी तारीफ होनी चाहिए. कांग्रेस ने अंबिकापुर को बदनाम कर दिया उनका हिसाब मांगने का समय आ गया है. इस चुनाव में चुन-चुनकर उनको घर भेजेंगे. आज देश में भाजपा एकमात्र ऐसी पार्टी है जो बिना भेदभाव, बिना तेरे मेरे, बिना अपने पराए के एक मंत्र को लेकर चल रही है और वह है, “सबका साथ, सबका विकास.”

2022 तक हर परिवार के पास घर होगा

नरेंद्र मोदी ने 2022 तक हिन्दुस्तान में एक भी परिवार को बिना घर के नहीं रहने देंगे, हर परिवार का अपना घर होगा. उन्होंने कहा कि मुझे भी पाई-पाई का हिसाब देना चाहिए ना? एक ही परिवार की चार पीढ़ियों ने देश को क्या दिया और एक चाय वाले ने चार साल में क्या दिया? इसका सबको पता चलना चाहिए. उन्होंने कहा कि जिस कांग्रेस पार्टी ने कभी गरीबी नहीं देखी, कभी गरीबों का दर्द नहीं समझा और देश से गरीबी हटाने के बजाए हमेशा गरीबों को ही हटाने के लिए कार्य किए, वह कांग्रेस पार्टी आज गरीबों की बात कर रही है.