सजेवीएनएल के साथ पांच जल विद्युत परियोजनाओं पर करेगी एमओयू साईन : मुख्यमंत्री

स्वतंत्रता दिवस पर मुख्यमंत्री जय राम ने ठाकुर कर्मचारियों-पेंशनरों को दिया बड़ा तोहफा -Panchayat Times
साभार : ऑफिसियल फेसबुक जय राम ठाकुर

शिमला. मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में विद्यमान विपुल जल विद्युत क्षमता के तीव्र दोहन के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है. इस क्षेत्र में निजी निवेश को भी बढ़ावा दे रही है. उन्होंने कहा कि ऊर्जा क्षेत्र विकास का ईंजन होता है और इसके दोहन से रोजगार के अवसर भी सृजित होते हैं. प्रदेश में ऊर्जा परियोजनाओं के कार्यान्वयन को तेज करने के प्रयास जारी हैं क्योंकि पिछले कुछ वर्षों से इन परियोजनाओं का निर्माण कार्य धीमा पड़ा हुआ था.

मुख्यमंत्री ने यह बात आज यहां प्रदेश में जल विद्युत परियोजनाओं के कार्यों की प्रगति समीक्षा और निवेश पर विचार-विमर्श करने के लिए आयोजित एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही.

जय राम ठाकुर ने कहा कि अगस्त माह में एसजेवीएनएल को आवंटित पांच जल विद्युत परियोजनाओं पर समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे ताकि इन परियोजनाओं पर शीघ्र कार्य आरम्भ किया जा सके. इन परियोजनाओं में लुहरी चरण-1 (210 मैगावाट), सुन्नी डेम (382 मैगावाट), धौलासिद्ध (66 मैगावाट), लुहरी चरण-2 (172 मैगावाट) तथा जांगी थोपन (780 मैगावाट) शामिल हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन पांचों परियोजनाओं में 15 हजार करोड़ रुपये के निवेश तथा आठ हजार लोगों को रोज़गार देने की क्षमता है. इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए इन परियोजनाओं के निर्माण कार्य को शीघ्र पूरा करने के प्रयास किए जाएंगे.

उन्होंने कहा कि चनाब नदी पर तीन हजार मैगावाट जल विद्युत क्षमता के दोहन की संभावनाएं हैं परन्तु यहां आवंटित पांच जल विद्युत परियोजनाओं को रद्द कर दिया गया है. निवेशकों को रियायतें उपलब्ध करवाने के उपरान्त इन परियोजनाओं को पुनः आवंटित करने की संभावनाओं की तलाश की जाएंगी.