बिहार में तीन ‘सी’ के खिलाफ सख्त रुख अपनाते है नीतीश कुमार

बिहार : तीन 'सी' के खिलाफ सख्त रुख अपनाते है नीतीश कुमार

पटना. एनडीए की नई सरकार में शिक्षा मंत्री बने मेवालाल चौधरी को पदभार संभालने के 2 घंटे के भीतर ही इस्तीफा देना पड़ा. इसकी एक वजह मेवालाल पर लगातार विपक्ष के हमलों को बताया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर सरकार द्वारा इसे नीतीश कुमार का सख्त रवैया बताया जा रहा है.

तीन ‘सी’ के खिलाफ सख्त नीतीश की नीति

नीतीश कुमार तीन ‘सी’ यानि क्राइम, करप्शन व कम्यूनिलिज्म से समझौता नहीं करने वाले मुख्यमंत्री के रूप में जाने जाते हैं. इसके कई उदाहरण हमारे सामने हैं, अबतक उनके 7 बार के कार्यकाल में विभिन्न आरोपों की वजह से उनके मंत्रिमंडल में शामिल आधा दर्जन मंत्रियों को इस्तीफा देना पड़ा है. 

अपनी पहली सरकार में ही उन्होंने मंत्री बनाने के 24 घंटे के भीतर जीतनराम मांझी का इस्तीफा लिया. फिर रामानंद सिंह को पद छोड़ना पड़ा. 19 मई 2011 को कोर्ट द्वारा फरार घोषित होने के बाद सहकारिता मंत्री रामाधार सिंह ने इस्तीफा दिया.

अक्टूबर, 2015 में स्टिंग ऑपरेशन में 4 लाख घूस लेते पकड़ाए निबंधन उत्पाद मंत्री अवधेश कुशवाहा ने इस्तीफा दिया था. बालिकागृह कांड के बाद सीबीआई की तलाशी के दौरान ससुराल से कारतूस बरामद होने पर 2018 में तत्कालीन समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा से इस्तीफा ले लिया गया. इन सभी नामों की सूची में अब महज तीन दिन के मंत्री मेवालाल चौधरी का नाम भी जुड़ गया है.