झारखंड में अब सरकार भी आयी चुनावी मोड़ में

विधानसभा चुनाव : भाजपा में विस्तारक योजना कैडर भी हैं टिकट के दावेदार-Panchayat Times

रांची. झारखंड में आने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सतारुढ़ भाजपा के साथ ही सरकार भी पूरी तरह चुनावी मोड में आ गयी है. सरकार की ओर से विभिन्न योजनाओं का तेजी से उद्घाटन और शिलान्यास किया जा रहा है.

राजनीतिक गलियारों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरे को भी इसी से जोड़कर देखा जा रहा है. मोदी ने गुरुवार को रांची में झारखंड विधानसभा के नये भवन का उद्घाटन और राज्य के नये सचिवालय भवन का शिलान्यास किया. प्रधानमंत्री ने साहेबगंज में निमित्त मॉडल टर्मिनल के पहले चरण का ऑनलाइन उद्घाटन किया. इसके अलावा प्रभात तारा मैदान से उन्होंने केंद्र सरकार की तीन महत्वकांक्षी योजनाओं का ऑनलाइन शुभारंभ किया. इन योजनाओं में प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना, छोटे व्यापारियों और स्वरोजगारियों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना और आदिवासी छात्र-छात्राओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए नवोदय विद्यालय की तर्ज पर देश में 462 एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय की लांचिग शामिल है. इनमें 69 झारखंड में होंगे.

राजनीतिक जानकार प्रधानमंत्री के इस कार्यक्रम को झारखंड विधानसभा चुनाव का आगाज बता रहे हैं. प्रेक्षकों के अनुसार प्रधानमंत्री के झारखंड दौरे के बाद भाजपा का चुनावी अभियान और जोड़ पकड़ेगा. इस बीच पार्टी सूत्रों ने बताया कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह संथालपरगना के जामताड़ा से 18 सितम्बर को जनआशीर्वाद यात्रा की शुरुआत कर चुनावी बिगुल फूंकेंगे.

मुख्यमंत्री रघुवर दास इस मौके पर मौजूद रहेंगे. मुख्यमंत्री इसके बाद तीन दिनों तक संथाल परगना में कैंप करेंगे. जामताड़ा के बाद वह उसी दिन नाला और दुमका में जनसभा को संबोधिक करेंगे। जनआशीर्वाद यात्रा 19 सितम्बर को शिकारीपाड़ा, महेशपुर और पाकुड़ पहुंचेगी.

भाजपा की ओर से घर-घर मोदी की तर्ज पर घर-घर रघुवर अभियान पहले ही शुरू हो चुका है. यह अभियान विधानसभा चुनाव तक चलेगा. इसके तहत पार्टी के नेता और कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को सरकार की उपलब्धियों और योजनाओं की जानकारी दे रहे हैं. बता दे कि भाजपा ने इस बार राज्य की 81 में से 65 से अधिक सीटों पर जीत दर्ज करने का लक्ष्य रखा है.

उल्लेखनीय है कि झारखंड विधानसभा का कार्यकाल अगले साल जनवरी के पहले सप्ताह में समाप्त हो रहा है. इससे पहले नये विधनसभा का गठन हो जाना है. ऐसे में नवम्बर-दिसम्बर तक विधानसभा का चुनाव कराया जा सकता है. चुनाव आयोग द्वारा अक्टूबर में विधानसभा चुनाव की घोषणा किये जाने की संभावना है.