झारखंड : विधानसभा चुनाव को लेकर विपक्षी फिर महागठबंधन बनाने की तैयारी में जुटे

झारखंड : विधानसभा चुनाव को लेकर विपक्षी फिर महागठबंधन बनाने की तैयारी में जुटे-Panchayat Times
प्रतीक चित्र

रांची. झारखंड में आगामी नवंबर-दिसंबर महीने में विधानसभा चुनाव को लेकर एकबार फिर प्रमुख विपक्षी दल, महागठबंधन बनाने की कवायद में जुट गए हैं. लोकसभा चुनाव के दौरान बनी सहमति के आधार पर ही सीटों के बंटवारे के फॉर्मूले पर इसके लिए शुरुआती विचार-विमर्श शुरू हो गया है.

लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के बीच सहमति बनी थी कि संसदीय चुनाव में कांग्रेस अधिक सीटों पर चुनाव लड़ेगी और विधानसभा चुनाव में झामुमो अधिक सीटों पर उम्मीदवार उतारेगा. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने भी पिछले दिनों हेमंत सोरेन से मुलाकात की और इस फॉर्मूले के अभी भी कायम रहने की बात कही है.

इधर, लोकसभा चुनाव में जिस तरह झारखंड विकास मोर्चा और राष्ट्रीय जनता दल का प्रदर्शन रहा, उसे देखते हुए यह कहा जा सकता है कि इन दलों की स्थिति कमजोर हुई है और विधानसभा चुनाव में अधिक सीटों के लिए दबाव बनाने की स्थिति में नहीं हैं.

कांग्रेस और झामुमो के रणनीतिकारों का मानना है कि सीटों के बंटवारे के फॉर्मूले में सीटिंग सीटों के अलावा वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में दूसरे स्थान पर रहने वाले दलों के खाते में सीटें जाएगी, लेकिन कुछ विधानसभा क्षेत्रों में नयी राजनीतिक परिस्थिति और संबंधित क्षेत्र के नेताओं की दमदार स्थिति को ध्यान में रखाकर ही सीटों के बंटवारे को अंतिम रूप दिया जाएगा. ऐसी स्थिति में झामुमो के खाते में 35 से 40 सीटें, कांग्रेस के खाते में 20-22 सीटें, झाविमो के खाते में 8 से 10 सीटें, राजद के खाते में पांच से सात सीटें जा सकती है. इसके अलावा मासस, भाकपा, माकपा और भाकपा-माले को भी गठबंधन में शामिल करने की योजना बनाई जा रही है.

साल 2022 तक झारखंड को दुग्ध उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाना है : रघुवर दास

इधर, झामुमो के केंद्रीय प्रवक्ता सह महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने बताया कि आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा और एनडीए के खिलाफ सभी प्रमुख विपक्षी दलों के साझा गठबंधन बनाने को लेकर कवायद जारी है. इस सिलसिले में 10 जुलाई को सभी प्रमुख विपक्षी दलों की बैठक झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के आवास पर होगी.

इस बैठक में कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा, झारखंड विकास मोर्चा और राष्ट्रीय जनता दल के अलावा वामदलों के नेताओं को भी आमंत्रित किया गया है. बैठक में राजद लोकतांत्रिक के नेताओं को भी आमंत्रित करने को लेकर संवाद स्थापित करने की कोशिश की जा रही है. उन्होंने दावा किया कि झारखंड में भाजपा-एनडीए के खिलाफ मजबूत विपक्षी गठबंधन बनेगा.