अंतर्राष्ट्रीय नशा निवारण दिवस पर चित्रकला प्रतियोगिता आयोजित

अंतर्राष्ट्रीय नशा निवारण दिवस पर चित्रकला प्रतियोगिता आयोजित-PanchayatTimes
साभार इंटरनेट

शिमला. अंतरराष्ट्रीय नशा निवारण दिवस के उपलक्ष्य पर प्रेस क्लब शिमला और तनिष्क शिमला के संयुक्त तत्वाधान में बुधवार को ऐतिहासिक गेयटी थियेटर में चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. इसमें स्कूली बच्चो ने नशे के दुष्प्रभावों पर सुन्दर पेंटिंग बनाकर नशे से दूर रहने का सन्देश दिया. प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन करने वाले बच्चो को शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने पुरस्कार देकर सम्मानित किया.

इस मौके पर शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्रेस क्लब शिमला समय-समय पर अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन करता रहता है तथा इसी चरण में आज नशे के खिलाफ चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया.

उन्होंने कहा कि नशे के खिलाफ सभी लोगों को आगे आना चाहिए तभी इस बुराई से बच्चो को बचाया जा सकता है। कहा कि आज देश में नशे का सेवन एक गंभीर समस्या है. उन्होंने स्कूली बच्चों से नशे से दूर रहने का आह्वान करते हुए प्रेस क्लब और तनिष्क शिमला की पहल की सराहना की है.

इस प्रतियोगिता में शहर के 10 स्कूलों के 50 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया. कनिष्ठ और वरिष्ठ वर्ग में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पाने वाले छात्र-छात्राओं को शिक्षा मंत्री ने पुरस्कृत किया.

कनिष्ठ वर्ग में एसडी स्कूल की कक्षा आठ की नम्रता को प्रथम पुरस्कार मिला. डीएवी लक्कड़ बाजार की कक्षा आठ की छवि ठाकुर को दूसरा और पोर्टमोर स्कूल की कक्षा छटी की सोनाक्षी को तीसरा स्थान मिला।

वरिष्ठ वर्ग में दयानन्द पब्लिक स्कूल की कक्षा दसवीं के अर्पण चौधरी को प्रथम, डीएवी लक्कड़ बाजार की कक्षा नोवीं की साक्षी शर्मा को दूसरा और केंद्रीय विद्यालय जाखू की कक्षा दसवीं की खुशबू को तीसरा स्थान मिला। इसके अलावा सभी प्रतिभागियों को प्रोत्साहित सहभागिता प्रमाण पत्र वितरित किये गए.

कनिष्ठ वर्ग के प्रतिभागियों में पोर्टमोर स्कूल की पल्लवी और गुंजन, जेसीबी पब्लिक स्कूल की दीपांशी, शगुन, रमन, दयानन्द पब्लिक स्कूल की वेणु गोपाल, अर्पित चौहान, सक्षम सिंह, केंद्रीय विद्यालय जाखू की सरगम, निकिता, सक्षम, आर्य स्कूल की शिवानी, वंशिका और अनिशा, डीएवी लक्कड़ बाजार की श्रेया, आयुष, एसडी स्कूल के आरुष, अंशिका, नम्रता, भारद्वाज पब्लिक स्कूल लोअर खलीनी के रूपांश, तन्वी और कशिश शामिल रहें.