पंचकूला में शीघ्र ही गुरुग्राम की तर्ज पर होगा विकास : सीएम

22 जिलों में एक साथ 4106 करोड़ की 211 परियोजनाओं का उद्घाटन
प्रतीक चित्र

पंचकूला. पंचकूला के विकास में गुरुवार को उस समय एक नया अध्याय जुड़ गया, जब मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सेक्टर-1 में 35.48 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से बनाए गए, लोक निर्माण विभाग के विश्राम गृह का लोकार्पण और सेक्टर-19 में 30 करोड़ 54 लाख रुपए की लागत से बनने वाले रेलवे ऊपरगामी पुल की आधारशिला रखी.

गुरूग्राम की तर्ज पर विकास होगा

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने पंचकूला में 35 एकड़ में शीघ्र की आयुष एम्स का शिलान्यास करने का और यहां पर मेडिसिटी और एजूसिटी के साथ-साथ गुरूग्राम की तर्ज पर विकास करवाने का आश्वासन दिया. मुख्यमंत्री गुरुवार को यहां सेक्टर 1 में 35.48 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से बनाए गए पीडब्ल्यूडी विश्राम गृह का लोकार्पण करने के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे. कार्यक्रम की अध्यक्षता लोक निर्माण विभाग मंत्री राव नरवीर सिंह ने की. विधायक ज्ञानचंद गुप्ता भी इस मौके पर मौजूद थे.

विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा है कि पंचकूला भले ही प्रदेश की राजधानी न हो बल्कि अधिकांश विभागों के यहां मुख्यालय होने के कारण इसका अधिक महत्त्व है. इसके विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी. पिछले चार सालों में यहां करीब 2 हजार करोड़ के विकास कार्य घोषित किए हैं जिन पर काम जारी है. मुख्यमंत्री ने इस मौके पर सेक्टर 19 में 30 करोड़ 54 लाख रुपए की लागत से बनने वाले रेलवे ओवर ब्रिज का शिलान्यास भी किया जो पंद्रह महीने में तैयार होगा. यह सेक्टर 19 के लोगों की काफी लंबे समय से मांग थी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस चार मंजिला विश्राम गृह में 107 कमरे हैं. इसी प्रकार का एक अत्याधुनिक रेस्ट हाउस गुरुग्राम में भी बनाया गया है. इन दोनों विश्राम गृहों से चंडीगढ़ व दिल्ली में कार्य से जाने वाले आम आदमी की साथ-साथ अधिकारियों व कर्मचारियों को भी ठहरने की सुविधा उपलब्ध होगी.

उन्होंने लोगों को भरोसा दिलाया कि पंचकूला को गुरुग्राम से अधिक विकसित किया जाएगा. विकास के लिए धन की कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी. स्वाभाविक रूप से पंचकूला को हरियाणा की मिनी राजधानी माना जाता है. उन्होंने कहा कि पिछले चार वर्षों में 90 विधानसभाओं में समान रूप से विकास कराना उनका लक्ष्य रहा है पर पंचकूला में कुछ अधिक विकास हो गया है. यह स्वाभाविक भी है क्योंकि अधिकांश विभागों के मुख्यालय यहां हैं.

उन्होंने कहा कि हरियाणा लोकायुक्त कार्यालय के लिए भी हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण को जमीन उपलब्ध कराने को कहा गया है. यह कार्यालय अभी चंडीगढ़ में किराए के भवन में है. पंचकूला में ठोस कचरा प्रबंधन, ताऊ देवी लाल खेल परिसर में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बहुउद्देश्यीय हाल और वाटर वर्क्स का निर्माण भी कराया गया है. हर अधिकारी, कर्मचारी, पूर्व सैनिक की रहने के लिए पहली पसंद अब पंचकूला बन गई है.

आज का दिन ऐतिहासिक दिन है

मंत्री राव नरबीर ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद करते हुए कहा कि उन्होंने अपने व्यस्त समय से हमारे लिए समय निकाला, उन्होंने 31 जनवरी को शुभ मानकर इस दिन उद्घाटन की बात मानी. आज का दिन पंचकूला के लिए ऐतिहासिक दिन है क्योंकि पूर्व मुख्यमंत्री बंसी लाल के समय से ही अधिकांश विभागों के कार्यालय चंडीगढ़ से यहां शिफ्ट होने लगे थे. लेकिन पीडब्ल्यूडी विभाग इसमें पीछे रह गया था. हमारी सरकार ने आते ही सबसे पहले यहां रेस्ट हाउस बनाने को प्राथमिकता दी और आज रिकॉर्ड समय में यह बनकर तैयार हो गया.