पानीपत में ओल्ड इंडस्ट्रियल एरिया का जीर्णोद्धार होगा

पानीपत. मॉडल टाउन क्षेत्र के ओल्ड इंडस्ट्रियल एरिया... - Panchayat Times
प्रतीक चित्र

पानीपत. मॉडल टाउन क्षेत्र के ओल्ड इंडस्ट्रियल एरिया की किस्मत आखिर 15 साल के लंबे इंतजार के बाद जाग ही गई. भाजपा सरकार ने पानीपत में एचएसआईआईडीसी के प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी है अब इस पूरे इंडस्ट्रियल एरिया का सुधार होगा. नए सिरे से पूरे एरिया में सड़के सीवरेज बनाए जाएंगे, स्ट्रीट लाइटें की व्यवस्था भी दुरुस्त होंगी.

इस एरिया में 300 औद्योगिक इकाइयां है इसमें बड़े स्पिनिंग मिल भी शामिल हैं. मॉडल टाउन के इंडस्ट्रियल एरिया ने 70000 लोगों को रोजगार दिया है. पिछले 15 सालों से इस क्षेत्र के उद्योगपति उपेक्षा का शिकार हो रहे थे. कई सालों से उद्योगपति प्रशासनिक अधिकारियों और मंत्रियों के दफ्तरों के चक्कर काट कर थक चुके थे, लेकिन सुविधा के नाम पर इन्हें कुछ नहीं मिला और इस क्षेत्र की हालत नारकीय होती चली गई.

ये भी पढ़ें- गुरुग्राम के लिए बड़ी खबर, सरकार ने 17 कॉलोनियों को किया नियमित

वहीं फिलहाल इस क्षेत्र में उद्योगपतियों को सड़के सीवरेज लाइट और गंदे पानी की निकासी जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित रहना पड़ रहा है, इसका सीधा असर इनके व्यापार पर भी पड़ा है. उद्योगपतियों का कहना है कि इस क्षेत्र के हालात इतने बुरे हैं कि यहां पर विदेशी बॉयर आने से कतराते हैं और अगर आ भी जाते है तो अपने देश में उद्यमियों को मिल रही सुविधाओं का हवाल देकर भारत व हरियाणा सरकारों की मजाक उडाते है.

गुरुवार को एचएसआईआईडीसी के एक्सईएन राजवीर सिंह ने बताया कि मॉडल टाउन इंडस्ट्रियल एरिया में 300 औद्योगिक इकाइयां हैं और यह क्षेत्र 600 एकड़ से अधिक भूमि में फैला हुआ है. वर्ष 1949 में इस इंडस्ट्रीज का विस्तार हुआ था 2012 में इसको एचएसआईआईडीसी के अंतर्गत कर दिया गया था. उन्होंने इस क्षेत्र में विकास कार्यों के लिए करीब 31 करोड, प्रदेश सरकार ने मंजूर किए है. वहीं विकास कार्य कराने के लिए अगले माह टेंडर निकालकर जल्द काम शुरू किए जाएंगे.

उन्होंने बताया कि इस पूरे क्षेत्र में नए सिरे से गंदे पानी की सुदृढ निकासी के लिए सीवर डाले जाएंगे. सड़कें व नालियों का निर्माण करवाया जाएगा. हैंडलूम एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के सदस्य विनोद धमीजा ने बताया कि 10 साल से मॉडल टाउन इंडस्ट्रीयल एरिया की हालत दयनीय है. ना तो यहां सड़कें है और ना ही सीवरेज व्यवस्था सही है. स्ट्रीट लाइटें आज तक नहीं लगाई गई है. जिस कारण आए दिन अपराधिक घटनाएं होती है.