आंगन में खेल रही बच्ची को जंगल ले गया पैंथर

प्रतापगढ़. जिले के धरियावद उपखंड में बुधवार रात एक पैंथर...- Panchayat Times
प्रतीक चित्र

प्रतापगढ़. जिले के धरियावद उपखंड में बुधवार रात एक पैंथर ने घर के आंगन में सोई हुई एक मासूम बालिका पर हमला कर दिया और उसको उठाकर जंगल में ले गया. गुरुवार सुबह मासूम की लाश जंगल में मिली. पैंथर के इस हमले के बाद ग्रामीणों में दहशत का माहौल है. फिलहाल वन विभाग की टीम ने सर्च ऑपरेशन शुरू करते हुए लोगों को जंगल की ओर नहीं जाने और आग जलाकर रखने की अपील की है.

धरियावद वन अधिकारी दारा सिंह राणावत ने बताया कि बुधवार रात को धरियावद उपखंड के गोपालपुरा ग्राम पंचायत के हाड़ा खेड़ा गांव के सावां फला में रहने वाले भीमा मीणा का परिवार घर के आंगन में सो रहा था. उसकी 10 वर्षीय मासूम बालिका साबिया भी आंगन में ही उनके पास सोई हुई थी. मध्य रात्रि को अचानक उन्होंने बच्ची के रोने की आवाज सुनी और उठ कर देखा तो बच्ची पास में नहीं थी. पैंथर उस को घसीटते हुए ले जा रहा था. भीमा और उसके परिवार वालों ने अपनी मासूम बेटी को छुड़ाने के लिए पैंथर का पीछा किया लेकिन वह आंखों से ओझल हो गया.

ये भी पढ़ें- विश्व हिंदू परिषद और राजस्थान पुलिस ने 51 ऊंटों को बचाया

घटना के बाद ग्रामीणों में दहशत फैल गई, आसपास के लोग इकट्ठा हुए और वन विभाग को इसकी सूचना दी गई. बाद में मौके पर पहुंची वन विभाग की टीम और ग्रामीणों ने बच्ची की तलाश शुरू की तो वह घर से काफी दूर मृत अवस्था में मिली. बालिका के शव को पारसोला के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पोस्टमार्टम के लिए लाया गया.

जहां पर बालिका के शव का पोस्टमॉर्टम करने के बाद परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया. फिलहाल बस्ती क्षेत्र में पैंथर के इस हमले के बाद ग्रामीणों में भय का माहौल है. ग्रामीणों का कहना है कि पहले भी पैंथर बस्ती क्षेत्र में घुस आते थे, लेकिन केवल जानवरों को उठाकर ले जाते थे लेकिन अब मानव जीवन पर खतरा मंडराने लगा है. वन अधिकारी के मुताबिक पैंथर के इस हमले के बाद ग्रामीणों को घने जंगल में नहीं जाने की हिदायत दी गई है और पैंथर की तलाश में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है.