पारा शिक्षकों ने भाजपा की पदयात्रा को दिखाए काले झंडे

पारा शिक्षकों ने पलामू जिला के हैदरनगर में रविवार को भाजपा की पदयात्रा...
प्रतीक चित्र

मेदिनीनगर. एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा हैदरनगर, हुसैनाबाद, मोहम्मदगंज प्रखंड के संयुक्त तत्वधान में सत्तारूढ़ भाजपा की पदयात्रा का विरोध किया गया. पारा शिक्षकों ने पलामू जिला के हैदरनगर में रविवार को भाजपा की पदयात्रा का जमकर विरोध किया. पदयात्रा जैसे ही हैदरनगर के रेलवे गुमटी के पास पहुंची. पहले से वहां जमे पारा शिक्षक सड़क पर उतर गए. उन्होंने कुछ देर तक भाजपा की पदयात्रा रोक दी. काले झंडे दिखाए और सरकार विरोधी नारे लगाये. पुलिस पदाधिकारी कालेश्वर लोहरा और मंटू सिंह के अलावा जवानों ने बीच बचाव कर पदयात्रा को आगे बढ़ाया.

पारा शिक्षकों ने सरकार की शिक्षा विरोधी नीतियों, विद्यालय विलय, पारा शिक्षकों पर दमनात्मक कार्रवाई, विद्यालय में कार्यरत रसोइयों का शोषण,पदमुक्त करने एवं नीत शिक्षा में सुधार के नाम पर शिक्षकों के मानसिक उत्पीड़न को लेकर रेलवे गुमटी के समीप सभा भी की. इस मौके पर पारा शिक्षकों ने सरकार विरोधी गीत गाकर साथियों के मनोबल को बढ़ाने का काम भी किया. पारा शिक्षकों के विरोध मार्च का संयुक्त नेतृत्व मोर्चा के हैदरनगर प्रखंड अध्यक्ष वीरेंद्र कुमार सिंह, हुसैनाबाद प्रखंड अध्यक्ष पप्पू पटेल, मोहम्मदगंज प्रखंड अध्यक्ष बद्री राम ने किया.

ये भी पढ़ें- पारा शिक्षकों को मिला सांसद कड़िया मुंडा का साथ

इसके पूर्व 300 से अधिक की संख्या में पारा शिक्षक, शिक्षिकाएं एवं रसोइया रामवि हैदरनगर बाजार में इकट्ठा होकर अपनी मांगों के समर्थन में तख्ती, बैनर के साथ जत्थे में निकले तथा सरकार के उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचाने को लेकर भाजपा के पदयात्रा को पारा शिक्षकों ने बाधित किया. बताते चलें कि पारा शिक्षक अपने मांगों को लेकर 16 नवम्बर से अनिश्चितकालीन हड़ताल हैं. पदयात्रा विरोध मार्च में राज्य कोर कमिटी सदस्य राजेश नन्दन सिंह, संयोजक विजय बहादुर सिंह, निरंजन सिंह, इबरत अहमद, राजेन्द्र राम इकबाल अहमद, माया कुमारी, बृजमोहन मेहता, राजीव रंजन सिंह, सुदामा सिंह, विश्वनाथ राम रवि, रौनक बेगम, आशा कुमारी, वंदना कुमारी, मुसर्रत परवीन समेत सैकड़ों की संख्या में पारा शिक्षक शामिल हुए.