पटवारी गलत रिपोर्ट देता है तो होगी कार्रवाई : जय राम ठाकुर

पटवारी गलत रिपोर्ट देता है तो होगी कार्रवाई : जय राम ठाकुर - Panchayat Times
फाइल फोटो

शिमला. मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा है कि यह सुनिश्चित किया जाएगा कि पटवारी आपदा राहत को लेकर कोई गलत रिपोर्ट न दे. यदि कोई पटवारी गलत रिपोर्ट देता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. राज्य सरकार बरसात एवं प्राकृतिक आपदा प्रभावितों को समय रहते राहत प्रदान करने का प्रयास कर रही है. ऐसे कार्यों में पटवारी की रिपोर्ट भी महत्वपूर्ण रहती है.

उन्होंने कहा कि राहत प्रक्रिया को सरल बनाया जाएगा ताकि जल्द से जल्द लोगों को राहत मिल सके. यह बात उन्होंने सोमवार को विधानसभा में प्रश्रकाल के दौरान विधायक रामलाल ठाकुर के सवाल के जवाब में कही. रामलाल ठाकुर ने कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र की कुछ पंचायतों में बरसात से हुए नुकसान की एवज प्रभावितों को मुआवजा नहीं मिल पाया है. उन्होंने ऐसे मामलों में पटवारी की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठाए, जिससे प्रभावितों को मदद मिलने पर परेशानी आ रही है.

शिमला शहर में चलेंगी 50 इलेक्ट्रिक बसें : गोविंद ठाकुर

विधायक सुखराम चैधरी ने राहत मैनुवल में संशोधन करके मदद राशि बढ़ाने की मांग की. इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार सभी प्रभावितों को समय पर मदद प्रदान करना चाहती है, लेकिन कई बार इसमें निश्चित प्रक्रिया के अपनाए जाने पर देरी हो सकती है. सरकार राहत मैनुवल में संशोधन करने के सुझाव पर भी विचार करेगी, ताकि प्रभावितों को माकूल मदद मिल सके. उन्होंने जानकारी दी कि कच्चे और पक्के मकान तक कितनी राहत दी जासकती है. बिलासपुर जिला में राहत एवं बचाव कार्य के लिए 6.75 करोड़ रुपए दिए गए हैं.

विधायक आशा कुमारी के सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा है कि विधायक प्राथमिकता के तहत किए जा रहे कार्यों का जल्द निपटारा किया जाएगा. उन्होंने कहा कि डलहौजी डिविजन के तहत पी.डब्ल्यू.डी. 7 सर्कल से संबंधित 12 डी.पी.आर. लंबित पड़ी है.
नाबार्ड के तहत इस पर कार्य किया जाना है. उन्होंने कहा कि आशा कुमारी के विधानसभा क्षेत्र के ऐसे 9.53 करोड़ रुपए के 3 कार्यों पर कार्य लंबित पड़े हैं.  सरकार ऐसे लंबित कार्यों को शीघ्र निपटाने का प्रयास करेगी. इसी उद्देश्य से नाबार्ड की लिमिट को 90 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 105 करोड़ किया गया है.