गुलाबी सर्दी में चुनावी गर्मी का असर

जोधपुर. विधान सभा चुनाव में अब एक महीना बाकी रह गया है. दोनों ही प्रमुख दल अपने अपने प्रत्याशियों की सूची अब तक जारी नहीं कर पाए हैं. इधर संभाग में गुलाबी सर्दी ने दस्तक दे दी है तो दूसरी तरफ चुनावी गर्मी सिर चढ़ कर बोलने लगी है. जोधपुर संभाग के जैसलमेर और पोकरण सीट को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं. दोनों ही दल अपने-अपने पत्ते खोलने में जिताऊ उम्मीदवार ढूंढ रहे हैं. संभवत: दीपावली के बाद इस पर फैसला आ जाएगा. ऐसा राजनीतिक सूत्रों का मानना है.

जैसलमेर जिले की दो विधानसभा सीटों जैसलमेर और पोकरण में अभी कांग्रेस व भाजपा ने अपने पत्ते खोले नहीं हैं. कांग्रेस की तरफ से दोनों स्थान पर प्रत्याशी करीब-करीब तय माने जा रहे है वहीं भाजपा अभी तक जिताऊ प्रत्याशी की तलाश में मंथन करने में जुटी है. ऐसा माना जा रहा है कि भाजपा की तरफ से इस बार दोनों सीटों पर चौंकाने वाले प्रत्याशी सामने आ सकते हैं.

छोटूसिंह भाटी विधायक, जैसलमेर

भाटी दो बार जीते चुनाव

जैसलमेर विधानसभा सीट पर वर्तमान में भाजपा के छोटूसिंह भाटी विधायक हैं. वे लगातार दो बार यहां से चुनाव जीत चुके हैं. पार्टी इस बार यहां से किसी नए चेहरे की तलाश में है. नए चेहरों में जैसलमेर राजघराने की पूर्व महारानी रासेश्वरी देवी का नाम सबसे आगे चल रहा है. हालांकि उन्होंने अभी तक अपने पत्ते खोले नहीं है कि वे कौन से दल से चुनाव लड़ेंगी, लेकिन उन्होंने जोर-शोर से अपना प्रचार अभियान शुरू कर दिया है.

ऐसा माना जा रहा है कि राजपूत समाज की नाराजगी दूर करने के लिए भाजपा यहां से प्रभावशाली राजघराने के किसी सदस्य को मैदान में उतार सकती है. वहीं कांग्रेस एक बार फिर जिले में दलित-मुस्लिम कार्ड खेलती नजर आ रही है. कांग्रेस ने जैसलमेर की सामान्य सीट पर गत चुनाव में दलित समाज के रूपाराम धनदे को अपना प्रत्याशी बनाया था. पांच साल से क्षेत्र में सक्रिय रूपाराम एक बार फिर प्रत्याशी बनने की होड़ में सबसे आगे हैं. रूपाराम के अलावा सुनीता भाटी भी रेस में बनी हुई हैं.

जैसलमेर राजघराने की पूर्व महारानी रासेश्वरी देवी

रासेश्वरी देवी जैसलमेर राजपरिवार से सियासत में प्रवेश करने वाली वह पहली सदस्य नहीं हैं पूर्व महाराजा रघुनाथ सिंह सांसद बने थे, वहीं राजघराने के ही हुकुम सिंह लगातार दो कार्यकाल के लिए विधायक रहे. इसके बाद वर्तमान वंशज बृजराज सिंह के चाचा चंद्रवीर सिंह विधायक निर्वाचित हुए. उनके बाद डॉ. जितेंद्र सिंह का बतौर विधायक तीन साल का छोटा कार्यकाल रहा. इसके बाद से जैसलमेर की पूर्व रॉयल फैमिली का कोई सदस्य चुनाव नहीं जीत सका.

कांग्रेस नेता रूपाराम धनदे

शेखावत भी चौंका सकते हैं

पोकरण में भाजपा की तरफ से वर्तमान विधायक शैतानसिंह का नाम तय माना जा रहा है. यहां से पार्टी जोधपुर के सांसद और केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत को अपना प्रत्याशी बना सभी को चौंका भी सकती है.