हिमाचल के हर पंचायत में खेल मैदान बनाने का वादा

ऊना. पंचायत स्तर पर चरणबद्ध तरीके से खेल मैदान विकसित किए जाएंगे
प्रतीक चित्र

ऊना. पंचायत स्तर पर चरणबद्ध तरीके से खेल मैदान विकसित किए जाएंगे ताकि ग्रामीण प्रतिभाओं को आगे बढ़ने का मौका मिल सके. यह उद्गार ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज, पशुपालन तथा मत्स्य पालन मंत्री वीरेन्द कंवर ने शुक्रवार को ग्राम पंचायत पलाहटा के तहत पड़ने वाले गांव कुड्ड में कुश्ती प्रतियोगिता के समापन अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किए. इस प्रतियोगिता में पंजाब व हिमाचल के लगभग 100 पहलवानों ने भाग लिया.

ग्रामीण विकास और पंचायतीराज मंत्री 6 अप्रैल को मंदली और बल्ह में

वीरेन्द्र कंवर ने कहा कि पारंपरिक खेलों कुश्ती, कबड्डी खो-खो इत्यादि को बढ़ावा देने के लिए कारगर कदम उठाए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि ऊना जिला में शायद ही ऐसी पंचायत हो जहां प्रति वर्ष कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन नहीं होता हो. कई ग्रामीण क्षेत्रों में कुश्ती प्रतियोगिताओं के साथ मेले भी जुड़े हुए हैं.

ये भी पढ़ें- शिमला स्थित एशिया की सबसे बड़ी पेयजल योजना हुई 95 साल की

उन्होंने कहा कि खेलों के माध्यम से जहां शारीरिक और मानसिक विकास होता है, वहीं विपरीत परिस्थितियों में जूझने की क्षमता भी पैदा होती है. युवाओं को नशे से दूर रखने के लिए खेलकूद प्रतियोगिताओं का आयोजन अत्यंत जरूरी है. उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी में तीन प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान भी किया गया है ताकि खिलाड़ियों को प्रोत्साहित किया जा सके.