प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हिमाचल के स्वास्थ्य कर्मियों और कोविड-19 टीकाकरण के लाभार्थियों से की बातचीत बोले 100 वर्षों की सबसे बड़ी महामारी के विरुद्ध लड़ाई में एक चैंपियन के रूप में उभरा हिमाचल

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हिमाचल के स्वास्थ्य कर्मियों और कोविड-19 टीकाकरण के लाभार्थियों से की बातचीत बोले 100 वर्षों की सबसे बड़ी महामारी के विरुद्ध लड़ाई में एक चैंपियन के रूप में उभरा हिमाचल - Panchayat Times
PM Modi's interaction with COVID-19 vaccine beneficiaries in Himachal Pradesh

नई दिल्ली/शिमला. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य कर्मियों और कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के लाभार्थियों से बातचीत की. इस अवसर पर राज्यपाल, मुख्यमंत्री, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर, सांसद, विधायक, पंचायत प्रतिनिधियों समेत तमाम अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे.

स्वास्थ्य कर्मियों से की बातचीत

बातचीत के दौरान, डोडरा क्वार, शिमला के सिविल अस्पताल के डॉ राहुल से बातचीत करते हुए, प्रधानमंत्री ने टीके की बर्बादी को कम करने के लिए टीम की प्रशंसा की और दुर्गम क्षेत्र में सेवा प्रदान करने के उनके अनुभवों पर चर्चा की.

प्रधानमंत्री ने थुनाग, मण्डी के टीकाकरण लाभार्थी दयाल सिंह से बात करते हुए टीकाकरण की सुविधाओं और टीकाकरण संबंधी अफवाहों से निपटने के तरीके के बारे में जानकारी ली.

प्रधानमंत्री ने टीम आधारित प्रयासों के लिए हिमाचल टीम की सराहना की. कुल्लू की आशा कार्यकर्ता निरमा देवी से प्रधानमंत्री ने टीकाकरण अभियान संबंधी उनके अनुभव के बारे में जानकारी ली.

प्रधानमंत्री ने टीकाकरण अभियान में मदद करने के लिए स्थानीय परंपराओं के उपयोग के बारे में भी बातचीत की. उन्होंने टीम द्वारा विकसित संवाद और सहयोग आधारित मॉडल की प्रशंसा की. उन्होंने पूछा कि कैसे उनकी टीम ने टीके लगाने के लिए लंबी दूरी की यात्रा की.

ऊना की कर्मो देवी को 22,500 लोगों को टीका लगाने का गौरव

हमीरपुर की निर्मला देवी के साथ, प्रधानमंत्री ने वरिष्ठ नागरिकों के अनुभव पर चर्चा की. प्रधानमंत्री ने हिमाचल में जारी स्वास्थ्य योजनाओं की सराहना की. ऊना की कर्मो देवी को 22,500 लोगों को टीका लगाने का गौरव प्राप्त है. पैर में फ्रैक्चर होने के बावजूद इस दिशा में अपना कार्य जारी रखने के लिए प्रधानमंत्री ने उनके साहस की प्रशंसा की. प्रधानमंत्री ने कहा कि कर्मो देवी जैसे लोगों के प्रयासों से ही दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम जारी है.

अटल सुरंग के प्रभाव पर भी की चर्चा

लाहौल और स्पीति के नवांग उपशाक के साथ बातचीत करते हुए प्रधानमंत्री ने पूछा कि उन्होंने लोगों को टीका लगवाने के लिए मनाने हेतु कैसे एक आध्यात्मिक नेता के तौर में अपनी भूमिका का इस्तेमाल किया.

पीएम मोदी ने क्षेत्र के जनजीवन पर अटल सुरंग के प्रभाव पर भी चर्चा की. उपशाक ने इससे यात्रा के समय में होने वाली कमी और बेहतर संपर्क की जानकारी दी. प्रधानमंत्री ने लाहौल-स्पीति को सबसे तेजी से टीकाकरण अभियान को अपनाने में मदद करने के लिए बौद्ध प्रमुखों को धन्यवाद दिया.

100 वर्षों की सबसे बड़ी महामारी के विरुद्ध लड़ाई में एक चैंपियन के रूप में उभरा हिमाचल

प्रधानमंत्री ने संबोधित करते हुए कहा कि हिमाचल प्रदेश 100 वर्षों की सबसे बड़ी महामारी के विरुद्ध लड़ाई में एक चैंपियन के रूप में उभरा है. उन्होंने कहा कि हिमाचल भारत का पहला राज्य बन गया है जिसने अपनी पूरी पात्र आबादी को कोरोना वैक्सीन की कम से कम एक खुराक दी है. उन्होंने कहा कि हिमाचल देवताओं की भूमि है. प्रधानमंत्री ने संवाद और सहयोग के सामंजस्य पूर्ण मॉडल की प्रशंसा भी की.

अफवाह या दुष्प्रचार को टीकाकरण के प्रयासों में बाधा नहीं बनने देने के लिए की सराहना

प्रधानमंत्री ने प्रसन्नता व्यक्त की कि लाहौल-स्पीति जैसे सुदूर जिले में भी हिमाचल शत-प्रतिशत प्रथम खुराक देने में अग्रणी रहा है. यह वह क्षेत्र है जो अटल सुरंग बनने से पहले महीनों तक देश के बाकी हिस्सों से कट जाता था. उन्होंने किसी भी अफवाह या दुष्प्रचार को टीकाकरण के प्रयासों में बाधा नहीं बनने देने के लिए हिमाचल के लोगों की सराहना की. उन्होंने कहा कि हिमाचल इस बात का प्रमाण है कि कैसे देश का ग्रामीण समाज दुनिया के सबसे बड़े और सबसे तेज टीकाकरण अभियान को सशक्त बना रहा है.

कनेक्टिविटी का सीधा लाभ पर्यटन को भी

प्रधानमंत्री ने कहा कि सशक्त होती कनेक्टिविटी का सीधा लाभ पर्यटन को भी मिल रहा है, फल-सब्ज़ी का उत्पादन करने वाले किसान-बागवान उत्पादकों को भी इसका लाभ मिल रहा है. गांवों में इंटरनेट कनेक्टिविटी का उपयोग कर हिमाचल की युवा प्रतिभाएं अपनी संस्कृति और पर्यटन की नई संभावनाओं को देश-विदेश में ले जा सकती हैं.

महिला स्वयं सहायता समूहों के लिए एक विशेष ऑनलाइन प्लेटफॉर्म बनाने जा रही है केंद्र सरकार

प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार अब महिला स्वयं सहायता समूहों के लिए एक विशेष ऑनलाइन प्लेटफॉर्म बनाने जा रही है. उन्होंने कहा कि इस माध्यम से हमारी बहनें अपने उत्पाद देश और दुनिया में बेच सकेंगी. वे सेब, संतरा, किन्नू, मशरूम, टमाटर जैसे कई उत्पादों को देश के कोने-कोने तक पहुंचा सकने में सक्षम बन सकेंगी.

हिमाचल में कृषि को जैविक बनाने का किया आग्रह

आजादी का अमृत महोत्सव की पूर्व संध्या पर, प्रधानमंत्री ने हिमाचल के किसानों और बागवान उत्पादकों से अगले 25 वर्षों के भीतर हिमाचल में कृषि को जैविक बनाने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे हमें अपनी मिट्टी को रसायनों से मुक्त करना होगा.