“तिरपाल से ढ़ककर चलाया जा रहा है स्वास्थ्य केन्द्र”

जोगिंद्रनगर (मंडी). भारत की जनवादी नौजवान सभा डीवाईएफआई का एक प्रतिनिधि मंडल भालारिहड़ा गांव की समस्याओं को लेकर शुक्रवार को सभा के ब्लॉक सचिव एवं मैनभरोला पंचायत के युवा नेता संजय जम्वाल की अध्यक्षता में उपमंडलाधिकारी नागरिक जोगिंद्रनगर से मिला.

मौके पर संजय जम्वाल ने कहा कि भालारिहड़ा क्षेत्र की आम जनता को कई समस्याओं से जूझना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि मैनभरोला पंचायत में सड़क, शिक्षा और स्वास्थ्य की स्थिति बहुत ही दयनीय है. उन्होंने कहा कि वर्ष 1995 में भालारिहड़ा में उपस्वास्थ्य केंद्र खोला गया. तब से लेकर वर्ष 2018 तक सरकार ने इस भवन की कोई सुध नहीं ली. आज हालात यह है कि ये भवन किसी भी समय गिर सकता है. पिछले लगभग दो वर्षो से इस स्वास्थ्य केंद्र की छत पर तिरपाल बिछाया गया है. इसी भवन में एक महिला भी रहती है.

उन्होंने कहा कि एेसी ही स्थिति पशु औषधालय की भी है. सरकार ने यह पशु औषधालय वर्ष 2011 में महिला मंडल के भवन में ही खोल दिया था. उस समय सरकार ने आश्वासन दिया था कि जल्द ही नया भवन तैयार कर दिया जाएगा.

सात साल बीत जाने के बाद भी अपना भवन सरकार नहीं बना सकी. यह भवन भी बुरी तरह से चरमरा गया है और किसी भी समय यह गिर सकता है. इसके साथ ही गांव की स्थिति भी दयनीय है और जगह-जगह से उखड़ गई है.

उन्होंने प्रशासन से आग्रह किया है कि उपस्वास्थ्य केंद्र भवन को गिराकर वहां पर नया भवन बनाया जाए और महिला मंडल में चल रहे पशु औषधालय का अपना भवन बनाया जाए. उन्होंने कहा कि यदि क्षेत्र की जनता की मांगों को पूरा नहीं किया गया तो वह लामबंद होकर आंदोलन पर बाध्य हो जाएगी.

कॉमेंट करें

अपनी टिप्पणी यहाँ लिखें
अपना नाम यहाँ लिखें