छात्र को पीटने वाले प्रोफेसर को तत्काल निलंबित किया जाए : एबीवीपी

छात्र को पीटने वाले प्रोफेसर को तत्काल निलंबित किया जाए : एबीवीपी
छात्र को पीटने वाले प्रोफेसर को तत्काल निलंबित किया जाए : एबीवीपी

शिमला. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने संजौली कॉलेज छात्रावास में छात्र की पिटाई में संलिप्त आरोपी प्रोफेसर को दो दिन के भीतर निलंबित करने की मांग शिक्षा विभाग से की है. रविवार को एबीवीपी प्रदेश सह मंत्री योगराज डोगरा ने कहा कि पिछले 13 दिसम्बर की रात संजौली कॉलेज छात्रावास में जो प्रकरण हुआ. उसमें से एक प्रोफेसर भूमिका संदिग्ध है.

योगराज डोगरा ने आरोप लगाया कि आरोपी अध्यापक इस घटना से पूर्व अगस्त 2018 और उसे भी पहले 2015-16 के सत्र में छात्रों के साथ मारपीट की घटना में संलिप्त रहा है, लेकिन राजनीतिक संरक्षण के चलते उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है. प्राध्यापक संजौली में एक निजी कम्पयूटर इंस्टीट्यूट भी चला रहा है.

इसके चलते वह कॉलेज में नियमित कक्षाएं भी नहीं लगाता है. इस प्रकरण में सच्चाई को जाने बिना कॉलेज प्रशासन आरोपी प्राध्यापक के समर्थन में खड़ा हो गया है. कॉलेज के प्रधानाचार्य यह बोल रहे हैं कि उनके कहने पर दोनों प्राध्यापक छात्रावास में थे. यहीं नहीं कॉलेज प्रशासन की ओर से सोशल मीडिया पर इस प्रकरण के बारे लिखने वाले छात्रों पर भी सख्त कार्रवाई तक के नोटिस कॉलेज में लगाए गए हैं.

उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति तो तब भी नहीं थी, जब संजौली कॉलेज में कथित 80 लाख रुपए के घोटाले को लेकर छात्र संगठनों ने सोशल मीडिया पर मुहिम छेड़ी थी. उन्होंने बताया कि जिस तरह से यह पूरा प्रकरण अंजाम दिया गया, वह एक सोची-समझी चाल भी हो सकती है. क्योंकि घटना वाले दिन छात्रावास वार्डन के मात्र एक फोन से पांच मिनट के भीतर दोनों प्राध्यापकों ने छात्रावास में आकर मामले को सुलझाने की कोशिश कर रहे छात्र अखिल पर भी हमला कर दिया.

योगराज ने कहा कि एबीवीपी शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज और मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर से मांग करती है कि, दो दिन के भीतर आरोपी प्राध्यापकों के खिलाफ कार्रवाई करें. इसके साथ ही छात्र को बुरी तरह लहूलुहान करने वाले आरोपी प्राध्यापक को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाए. उन्होंने कहा कि यदि दो दिन के भीतर सरकार और कॉलेज प्रशासन उनकी मांग को स्वीकार नहीं करता है, तो एबीवीपी आंदोलन करेगी.