झारखंंड के मतदाता होंगे जागरूक, चुनाव आयोग की असरदार पहल

झारखंड के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एल खियांग्ते... - Panchayat Times
प्रतीक चित्र

रांची. झारखंड के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एल खियांग्ते ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राज्य के सभी जिलों के जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को मतदाता जागरूकता के लिए महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्थानों पर प्रचार-प्रसार का निर्देश दिया है.

खियांग्ते ने शुक्रवार को यहां कहा कि चुनाव के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए एल.ई.डी, पोस्टर, बैनर और होर्डिंग्स सहित अन्य प्रचार माध्यमों का इस्तेमाल किया जाए. समाहरणालय, सार्वजनिक दफ्तर, कचहरी परिसर, रेलवे स्टेशन, हाट बाजार, चौक-चौराहे और हाट-बाजार समेत वैसे स्थान जहां हर दिन बड़ी संख्या में लोगों का आना-जाना लगा रहता है, वहां मतदाता जागरूकता को लेकर व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जाए. उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए भारत निर्वाचन आयोग की ओर से विशेष तौर पर कई दिशा-निर्देश दिए गए हैं.

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी विनय कुमार चौबे और अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मनीष रंजन ने भी चुनाव में मतदाताओं की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने के निर्देश जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को दिए.

मतदाता जागरुकता के लिए सार्वजनिक स्थानों पर प्रचार-प्रसार करें: एल खियांग्ते
एल खियांग्ते

सोशल मीडिया का करें इस्तेमाल

खियांग्ते ने जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को कहा कि मतदाताओं को जागरूक करने की दिशा में जो महत्वपूर्ण विषय हों उसका प्रचार-प्रसार सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म पर किया जाए. इससे मतदाताओं को शिक्षित करने के साथ चुनाव प्रक्रिया में सहभागिता सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी. उन्होंने जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को मतदाता जागरूकता से संबंधित विशिष्ट फोटोग्राफ या वीडियो को सोशल मीडिया पर अपलोड करने का निर्देश दिया. उन्होंने जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को सेवा मतदाताओं से संबंधित प्रतिवेदन यथाशीघ्र प्रेषित करने को कहा.

ये भी पढ़ें- पलामू में भगवान का दिया सबकुछ, फिर भी गरीबी…

अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी विनय कुमार चौबे ने सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को बताया कि सेक्टर अफसर की ट्रेकिंग के लिए एक मोबाइल एप विकसित किया गया है. सभी सेक्टर अफसर अपने स्मार्टफोन में इस एप को डाउनलोड करेंगे. ताकि इसके माध्यम से उनकी ट्रैकिंग की जा सके. ट्रैकिंग के लिए कमांड कंट्रोल सिस्टम या डैशबोर्ड मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी और जिला निर्वाचन पदाधिकारी के स्तर पर नियंत्रित किया जा सकेगा. उन्होंने जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को भी स्ट्रांग रूम से संबंधित प्रतिवेदन विहित प्रपत्र में प्रेषित करने के निर्देश दिए.

हेलीड्रॉपिंग की आवश्यकता को लेकर भेजें प्रस्ताव

चौबे ने कहा कि जहां हेलीड्रॉपिंग की आवश्यकता है, वहां के जिला निर्वाचन पदाधिकारी और पुलिस अधीक्षक के संयुक्त हस्ताक्षर से प्रस्ताव मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, झारखंड को प्रेषित किया जाएं. यहां से प्रस्ताव को भारत निर्वाचन आयोग को प्रेषित कर दिया जाएगा. ईटीपीबीएस पर डीईओ को मिली ट्रेनिंग वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को इलेक्ट्रॉनिकली ट्रांसिमिटेड पोस्टल बैलेट सिस्टम (ईटीपीबीएस) का प्रशिक्षण दिया गया. सेवा मतदाताओं की मतदान प्रक्रिया में भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए पहली बार चुनाव आयोग द्वारा ईटीपीबीएस का प्रावधान किया गया है.

मीडिया प्रमाणीकरण एवं अनुश्रवण समिति की बैठक का भेजें प्रतिवेदन

डॉ. रंजन ने जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को कहा कि जिलास्तरीय मीडिया प्रमाणीकरण एवं अनुश्रवण समिति की बुलाई गई बैठक का प्रतिवेदन वे मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के कार्यालय को प्रेषित करें. मीडिया में पेड न्यूज पर निगरानी रखने और प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया पर विज्ञापन की स्वीकृति या अस्वीकृति की कार्रवाई एमसीएमसी के द्वारा की जानी है.

स्वीप से जुड़े कार्यकमों का हर दिन भेजें प्रतिवेदन

डॉ. रंजन ने कहा कि मतदाताओं को जागरूक करने के लिए स्वीप के तहत प्रतिदिन कई कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं. प्रत्येक जिले में स्वीप के नोडल पदाधिकारी हर दिन जिला निर्वाचन पदाधिकारी को स्वीप के तहत चलाए गए कार्यक्रमों और की गई कार्रवाई की अद्यतन स्थिति से जिला निर्वाचन पदाधिकारी को अवगत कराएंगे. इससे वे अवगत हो पाएंगे कि स्वीप कार्यक्रम भलीभांति चल रही है या नहीं. अगर किसी तरह की शिथिलता है तो उसे शीघ्र दूर किया जाए.

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा गहनता पूर्वक स्वीप के तहत चल रहे कार्यक्रमों की निगरानी की जा रही है. निर्वाचन आयोग से प्राप्त होने वाले स्वीप मैटेरियल्स, जिसमें लघु फिल्में भी शामिल हैं, सभी जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को उनके ई-मेल आईडी पर प्रेषित किया जा रहा है. उसका अवलोकन करते हुए प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाए. डॉ रंजन ने जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को कहा कि वे डिस्ट्रिक्ट आईकॉन के चयन से संबंधित प्रतिवेदन यथाशीघ्र भेजें. इसमें आईकॉन का नाम, उनकी उपलब्धि और उनका अंडरटेकिंग से संबंधित प्रतिवेदन शामिल है, ताकि राज्यस्तर पर सभी डिस्ट्रिकट आईकॉन की बैठक बुलाने की तारीख निर्धारित की जा सके.