जेपी कारा में 50 बेड का बनाया गया क्वॉरेंटाइन सेंटर

जेपी कारा में 50 बेड का बनाया गया क्वॉरेंटाइन सेंटर-Panchayat Times
साभार इंटरनेट


हजारीबाग. लोकनायक जयप्रकाश नारायण केंद्रीय कारा में 50 बेड का क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाया गया है. इस सेन्टर में पिछले 4 दिनों में आए नए 15 बंदियों को निगरानी के लिए रखा गया है. कोरोना वायरस के इनक्यूबेशन पीरियड यानी 2 से 14 दिनों के अंदर वायरस का लक्षण नहीं पाए जाने पर उन्हें जेल के जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया जाएगा.

जेपी कारा में 20 बेड का आइसोलेशन वार्ड भी बनाया गया है. इसी इनक्यूबेशन पीरियड के अंदर अगर बंदी में कोरोना वायरस के लक्षण पाए जाते हैं तो उन्हें आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया जाएगा. बताया गया है कि जेपी कारा में सभी बंदियों को दिन भर में कम से कम तीन चार बार सेनीटाइज किया जा रहा है. जेपी कारा में बंदियों से मुलाकात बंद कर दिया गया है, लेकिन परिजन बंदी से इलेक्ट्रॉनिक मुलाकात कर सकते हैं.

यह कार्य प्रज्ञा केंद्र में आधार कार्ड से इ मुलाकात के लिए समय बुक कराना पड़ता है. उसके बाद रेडियो कॉन्फ्रेंस के द्वारा परिजन को टेलीफोन बूथ से बंदी से बात कराया जा सकता है. अभी तक 2 परिजन ई कॉन्फ्रेंसं के तहत बंदी से मुलाकात की है. 

प्रतिदिन 5 हजार से अधिक बन रहा है मास्क 

जेपी कारा में प्रतिदिन 5 से 6 हजार मास्क बनाने का काम किया जा रहा है. इस काम में जेपी कारा के तीन बंदे शामिल हैं. यह मास्क जेपी कारा के सभी जेल कर्मियों, कैदियों और बंदियों को भी सुरक्षा के तौर पर दिया जा गया है. साथ ही इसे बाहर भी बेचा जा रहा है.

नए बंदियों का हो रहा थर्मल स्कैनिंग

जेपी कारा में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए सभी नए बंदियों की थर्मल स्कैनिंग की जा रही है. साथ ही जेल कर्मियों का भी निरंतर थर्मल स्कैनिंग किया जा रहा है.