लोकसभा चुनाव : पोलिंग बूथ नंबर 25 को लेकर उठे सवाल

वोटरों को मतदान केंद्र तक जाने का भी दिया जाएगा नक्शा-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

हिसार. कस्बे का पोलिंग बूथ नंबर 25, मुख्य द्वार से ईवीएम मशीन तक की पैदल दूरी 70 फुट है. भीतर आने और जाने के रास्ते की चौड़ाई केवल चार फुट. यहीं बस नहीं होती आबादी के बीच सरकारी स्कूल में बने इस बूथ से दो किलोमीटर दूर रहने वाले मतदाता जोड़े हुए हैं. ऐसे में बुजुर्गों और दिव्यांगों की हालत का सहज अंदाजा लगाया जा सकता है.

यह पोलिंग बूथ पुराने बाजार में ऐसे स्थान पर है जहां आपात अवस्था में तत्काल मदद पहुंचाना मुनासिब ही नहीं है. संकरी गलियों के चलते हर साल मतदाता बेहद परेशान होते हैं. नगरपालिका प्रधान ने इस बार निर्वाचन विभाग को गौर करने के लिए एक पत्र भी लिखा है.

कस्बे की राजकीय कन्या प्राथमिक पाठशाला पुराना बाजार में स्थित है. इसका भवन करीब पचास साल पुराना है. इस बार के लोकसभा चुनाव में पाठशाला में बूथ संख्या 25 रहेगी. करीब तीस साल से इसी पाठशाला में पोलिंग बूथ बनाया जा रहा है. इस मतदान केंद्र के आसपास गलियां संकरी और अतिक्रमण का शिकार हो चुकी हैं. लाचार मतदाताओंं के लिए पोलिंग बूथ तक पहुंच पाना सहज नहीं रह गया है. इस मतदान केंद्र के भीतर जाने के लिए मुख्य द्वार से पैदल ही 70 फुट लंबा रास्ता तय करना पड़ता है जो कि केवल चार फुट चौड़ा है. केंद्रीय निर्वाचन आयोग दावा कर रहा है कि मतदान केंद्रों तक दिव्यांगों को ले जाने के लिए वाहन उपलब्ध करवाए जाएंगे. जबकि यह ऐसा मतदान केंद्र हैं. जिससे करीब एक सौ फुट दूर तक ही वाहन आ सकता है.

ऐसे में दिव्यांग को ईवीएम तक पहुंचने के लिए करीब 170 फुट की दूरी तय करनी पड़ेगी। बुजुर्गों के लिए अब यह मतदान केंद्र भारी परेशानी साबित होने लगा है. इस पोलिंग बूथ पर संत नगर व तंगीपुर के मतदाताओं को जोड़ा गया है. जो कि इस केंद्र से दो किलोमीटर दूर रहते हैं. ऐसे में गरीब परिवारों को यही लंबी दूरी तय करना आसान नहीं लगता है. यहीं बस नहीं होती इस्माईलाबाद से दूर दराज खेतों में बने डेरों तक के काफी लोगों को बतौर मतदाता इसी केंद्र से जोड़ा गया है.

मतदान केंद्र किसी लिहाज से सही नहीं-अरोड़ा

नगरपालिका प्रधान संजीव अरोड़ा कहते हैं कि किसी भी लिहाज से मतदान केंद्र सही नहीं है. उनका कहना है कि इस बाबत एक पत्र निर्वाचन विभाग को लिखा गया है. मतदाताओं के बेवजह परेशान न होना पड़े. उन्होंने माना कि संकरी गलियों के चलते मतदान केंद्र तक पहुंचने में वाहन को ही एक घंटे तक का समय लग जाता है.

क्या है विकल्प

अपनी पड़ताल में विकल्प तलाशा है कि काठगढ़ रोड पर पंचायत भवन में अब नगरपालिका कार्यालय स्थापित किया गया है. यहां भवन व पार्किंग सहित सभी सुविधाएं हैं। यहां तक की बिजली, पानी व शौचालय तक का प्रबंध है. ऐसे में बूथ नंबर 25 को यहां शिफ्ट कर मतदाताओं को बड़ी राहत दी जा सकती है.