झारखंड का नारा” पहले विद्यादान, फिर कन्यादान” होना चाहिए : रघुवर दास

झारखंड का नारा
साभार : ऑफिसियल फेसबुक रघुवर दास

पाकुड़ (रांची). झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि योजना है, उद्देश्य है, और सरकार का लक्ष्य भी. सुकन्या योजना मात्र एक योजना नहीं, बल्कि महिला सशक्तिकरण को केंद्र बिंदु बनाकर इसे लागू किया गया है, ताकि कन्या भ्रूण हत्या रुके, बाल विवाह पर लगाम लगे, राज्य की बच्चियां शिक्षा से आच्छादित हों और सही समय, सही उम्र में उनका विवाह हो सके.  झारखण्ड का नारा” पहले विद्यादान, फिर कन्यादान” होना चाहिए.

स्त्री ही सृष्टि है

मुख्यमंत्री रघुवर दास गुरुवार को राज्य के पाकुड़ जिले में आयोजित मुख्यमंत्री सुकन्या योजना जागरूकता कार्यक्रम में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि आज देश में बेटियां आगे बढ़ रही हैं. वह खेल का क्षेत्र हो या फिर शिक्षा हर क्षेत्र में वह अच्छा कर रही हैं. वह पुरुषों से किसी भी मामले में कम नहीं बस उन्हें मौका मिलना चाहिए. यह कार्य केंद्र व राज्य सरकार कर रही है और निरंतर करती रहेगी, क्योंकि सरकार का मानना है कि नारी सशक्तिकरण के बिना देश, राज्य या फिर परिवार को सामर्थ्यवान नहीं बनाया जा सकता. स्त्री ही सृष्टि है इसलिए उस सृष्टि को इस धरा पर आने दें. कहा जाता है की कन्यादान से पुण्य होता है लेकिन मेरा मानना है कि पहले विद्यादान, फिर कन्यादान यह महा पुण्य है. झारखंड का यह नारा हो. हम इसे आत्मसात करें. यह प्रण लेने की आवश्यकता है.

पीएम 17 फरवरी को आ रहे हैं हजारीबाग

मुख्यमंत्री ने पाकुड़ में मुख्यमंत्री सुकन्या योजना जागरूकता कार्यक्रम का शुभारंभ पहले पढ़ाई, फिर विदाई के संदेश के साथ किया. योजना के तहत 8,946 सुकन्याओं के बीच तीन करोड़ एक लाख रुपए का वितरण किया. मुख्यमंत्री ने संथाल परगना में 31 करोड़ 57 लाख की योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास किया. संथाल के सभी सरकारी कार्यालय में संथाली भाषा में भी होगा नाम दर्ज.संथाल परगना के स्कूलों में 1 से 5 तक के बच्चों को संथाली भाषा ओलचिकी लिपि में भी शिक्षा. 31 अगस्त तक लिट्टीपाड़ा के एक लाख लोगों को मिलेगा पाइपलाइन से शुद्ध पेयजल.

मुख्यमंत्री ने कहा कि संथाल परगना का सर्वांगीण विकास, यहां की गरीबी को दूर करना राज्य सरकार का लक्ष्य है. आप अपने बच्चों को पढ़ाएं उन्हें उत्कृष्ट बनाएं. राज्य सरकार आपके साथ है. इस साथ को निभाने के लिए ही मुख्यमंत्री सुकन्या योजना का शुभारंभ किया गया है ताकि बेटों के साथ आपकी बेटियां भी शिक्षा से आच्छादित हों और अपनी कल्पनाओं को उड़ान दे सकें.

दास ने बताया कि झारखंड की संस्कृति और भाषा उसकी पहचान है। जिस भाषा, संस्कृति को बचाने के लिए संथाल के वीरों ने संघर्ष किया. सरकार उसका संरक्षण और संवर्धन करने के प्रति प्रतिबद्ध है. इस निमित्त संथाल परगना के सभी सरकारी कार्यालयों में हिंदी के साथ-साथ संथाली भाषा यानी ओल चिकि लिपि में उस कार्यालय का नाम दर्ज किया जाएगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी 17 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आगमन हजारीबाग में हो रहा है. इस अवसर पर भी दुमका, हजारीबाग और पलामू में नवनिर्मित मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन करेंगे. संथाल परगना को भी मेडिकल कॉलेज की सौगात मिलेगी. साथ ही राज में निवास करने वाले 67 हजार आदिम जनजाति परिवारों के लिए पाइपलाइन के माध्यम से जलापूर्ति योजना का शिलान्यास प्रधानमंत्री द्वारा होगा. वहीं राज्य सरकार 1200 आदिवासी गांव में अप्रैल महीने से पेयजलापूर्ति के लिए डीप बोरिंग, 5 हजार लीटर क्षमता वाली टंकी का निर्माण करेगी ताकि लोगों तक शुद्ध जल पहुंच सके

मुख्यमंत्री ने महेशपुर ग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना, अम्रपाड़ा ग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना, प्रखंड सह अंचल कार्यालय भवन लिट्टीपाड़ा, लिट्टीपाड़ा प्रखंड के ग्राम धंधा पहाड़ी में बालिका आवासीय विद्यालय छात्रावास निर्माण, लिट्टीपाड़ा प्रखंड के ग्राम कुमार भाजा में एकलव्य विद्यालय के लिए छात्रावास का निर्माण, लिट्टीपाड़ा प्रखंड में ग्राम कुमार भाजा में एकलव्य विद्यालय का निर्माण, लिट्टीपाड़ा प्रखंड के ग्राम कुमार आजा में एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय के लिए चतुर्थवर्गीय क्वार्टर एवं स्टाफ क्वार्टर निर्माण कार्य का उद्घाटन किया. इस दौरान कुल 205 एकड़ भूमि पर 85.44230 की योजना का शिलान्यास किया गया.