यहां 10 साल से पेड़ को राखी बांध रही कल्पना, ये है इसके पीछे का राज

यहां 10 साल से पेड़ को राखी बांध रही कल्पना-Panchayat Times
यहां 10 साल से पेड़ को राखी बांध रही कल्पना

कुल्लू. 3 साल की उम्र से पेड़ों को भाई मानने वाली कल्पना आज भी पेड़ों को राखी बांध कर रक्षाबंधन का त्यौहार मनाती है. वही, 13 साल की कल्पना को प्रेरणा मानकर एक और महिला ने पर्यावरण सरंक्षण की और अपना कदम बढ़ाया है. कल्पना से प्रेरणा लेकर महिला निशि शर्मा भी पिछले 3 सालों से पेड़ों को राखी बांध रही है.

पर्यटन नगरी मनाली के अलेउ से संबंध रखने वाली कल्पना ठाकुर पिछले करीब 10 वर्षों से पेड़ों को राखी बांधकर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लेती आ रही है. कल्पना ने बताया कि जब वह तीन वर्ष की थी, तभी से वह पर्यावरण को बचाने का संदेश दे रही है. बकौल कल्पना उनका अपना सगा भाई नहीं है. इसलिए वह हर वर्ष रक्षाबंधन के मौके पर एक पौधा लगाकर उसे राखी बांधती है.

उसका उद्देश्य लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करना है और इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए वह अपने पिता पर्यावरणविद् किशन लाल के पदचिह्नों पर चल रही है. कल्पना ठाकुर छोटी उम्र में ही पेड़ से भाई का रिश्ता जोड़ने वाली हिमाचल की पहली बेटी है. उसकी इस मुहिम से प्रेरणा लेकर अब अन्य बेटियां और महिलाएं भी पेड़ों को राखी बांधकर पर्यावरण की रक्षा की कसम खा रही हैं.

वही, कल्पना का साथ दे रही महिला निशि शर्मा का कहना है कि किसी कारण वह अपने भाई को राखी नही बांध पाई थी. जिसके चलते अब उन्होंने पेड़ो को ही अपना भाई बनाया है. पर्यावरण को बचाने और देश को हरा-भरा देखने का उनका सपना दोनों मिलकर पूरा कर रही है. उन्होंने कहा कि पर्यावरण सरंक्षण का उनका यह कार्य आगे भी चलता रहेगा.