रूपिन पास में फंसे सभी ट्रेकर्स को देर रात सुरक्षित सांगला पहुंचाया गया

रिकांगपिओ. बीते कल उत्तराखंड से साँगला की तरफ आ रहे 14 ट्रेकर्स रूपिन पास

रिकांगपिओ. बीते कल उत्तराखंड से साँगला की तरफ आ रहे 14 ट्रेकर्स रूपिन पास में फंस गए थे जिन्हें पिछली रात होमगार्ड्स की टीम व पुलिस की कुविक रिस्पॉन्स टीम आईटीबीपी के जवानों ने सुरक्षित साँगला पहुँचाया है. वही एक और दल जो रोहड़ू से किन्नौर के ब्रुआ ट्रेक पर फसे हुए थे. उसमें एक व्यक्ति देवाशीष की मौत हो गयी व दो को बचा लिया गया है जिसमे एक व्यक्ति रूपम घोष को प्राथमिक उपचार के बाद चंडीगढ़ रेफर किया गया व एक अन्य ट्रेकर बिल्कुल ठीक अवस्था मे है.

उल्लेखनीय है कि बीते कल सुबह 11 बजे साँगला पुलिस थाना में सूचना आई कि ब्रुआ पास व रूपिन पास में दो ट्रेकिंग दल फस गए है जिसके बाद किन्नौर प्रशासन एक दम हरकत में आया और तुरन्त रेसक्यु के लिए फोर्स को रवाना किया और इंडियन एयर फोर्स की मदद से हेलीकॉप्टर द्वारा सर्च ऑपरेशन चलाया गया जिसमें सफलता हासिल हुई,फिलहाल दोनों ट्रैकिंग पास से सभी ट्रेकरों को सुरक्षित निकाल दिया है.

ये भी पढ़ें- हार का ठीकरा कार्यकर्ताओं पर नहीं फोड़ा जा सकता है : सुखविंद्र सिंह सुक्खू

रूपिन पास में फंसे 14 ट्रेकर्स में से अंत मे पांच ट्रेकर्स को ढूढने में फोर्स को काफी समय लगा क्यो कि पहाड़ियों पर बर्फ़बारी हो रही थी लेकिन काफी मशक्कत के बाद इन अंतिम पांच ट्रेकर्स को भी बचा लिया गया जिसमे एलस्टन महाराष्ट,सेवा ज्योति,वेस्ट बंगाल,प्राची नन्दा महाराष्ट्र,सिद्धार्थ वेस्ट बंगाल को देर रात रेस्क्यू टीम ने साँगला बसपा गेस्ट हाउस में ठहराया,और प्रशासन द्वारा उन्हें आज अपने अपने गन्तव्यों तक भेजा जाएगा. वही किन्नौर प्रशासन ने आने वाले समय मे सभी ट्रेकर्स दल को अब बिना किसी अनुमति के ट्रेकिंग करने पर लाइसेंस रद्द करने की चेतावनी भी दी है.