दोमुंहे सांप की तस्करी में दो गिरफ्तार, करोड़ों में बिकने वाली प्रजाति

बोकारो. दुर्लभ प्रजातियों के सांपों की तस्करी - Panchayat Times

बोकारो. दुर्लभ प्रजातियों के सांपों की तस्करी का एक मामला सामने आया है. पुलिस ने एक होटल से दो सांप तस्करों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इनके पास से दुर्लभ प्रजाति का एक दोमुंहा सांप बरामद किया. इस संबंध में पुलिस और वन विभाग जांच कर रहे हैं.

शुक्रवार को पुलिस ने गुप्त सूचना के बाद सेक्टर-4 थाना क्षेत्र अंतर्गत सिटी सेन्टर स्थित होटल आनंदा से दो लोगों को पकड़ा. कमरे की तलाशी लेने पर पुलिस ने सरसों से भरा बैग बरामद किया, जिसमें सैंड बोआ प्रजाति का एक दुर्लभ प्रजाति का दोमुंहा सांप पाया गया. सैंड बोआ प्रजाति के सांप के साथ पकड़े गये तस्करों ने अपना नाम बिहार के गया निवासी सुनील पासवान एवं बोकारो जिले के दुग्दा निवासी शहाबुद्दीन बताया. पुलिस सूत्रों के अनुसार सैंड बोआ प्रजाति के इस दुर्लभ सांप की अंतरराष्ट्रीय बाजार में करोड़ों की कीमत है. पुलिस ने बताया कि इस सांप को बेचे जाने की तैयारी थी, उससे पहले ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

बोकारो. दुर्लभ प्रजातियों के सांपों की तस्करी - Panchayat Times

ये भी पढ़ें-

पुलिस ने बताया कि गुरुवार रात को ही गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने दोनों तस्करों को सांप के साथ गिरफ्तार किया था. इन तस्करों ने मौके का फायदा उठाकर साक्ष्य मिटाने की नीयत से बैग से उक्त सांप को निकाल कर थाने की खिड़की से निकालकर भगा दिया. बाद में पुलिस के दबाव पर खोजबीन में सांप को फिर से वहीं पास से बरामद कर लिया गया. जानकारों के अनुसार यह सांप काफी सुस्त होता है और यही कारण है कि वह कहीं ज्यादा दूर नहीं निकल सका था. पुलिस का कहना है कि साक्ष्य मिटाने को लेकर अलग से एक मामला दर्ज किया है.

घटना की जानकारी मिलने पर सिटी डीएसपी ज्ञान रंजन ने भी तस्करों से पूछताछ की. रंजन ने बताया कि पुलिस ने गिरफ्तारी के बाद मामले को वन विभाग के हवाले कर दिया है. फिलहाल दोनों तस्करों को जेल भेज दिया गया. वन्य-प्राणी अधिनियम के तहत अब वन विभाग आगे की कार्रवाई करेगी. उन्होंने बताया कि दोनों तस्कर कहां से सांप लेकर आये थे या किनसे इन सांपों की सौदेेबाजी कितने में होने वाली थी इसकी जांच चल रही है.

सैंड बोआ का होता है सर्वाधिक अवैध व्यापार : डीएफओ

इस संबंध में बोकारो के वन प्रमंडल पदाधिकारी (डीएफओ) राहुल कुमार ने बताया कि सैंड बोआ सांप भारत में सर्वाधिक अवैध व्यापार से जुड़े सांपों में से एक है. इसकी काफी ज्यादा तस्करी होती है. भारत में इसे अच्छे भाग्य का सूचक माना जाता है. जबकि चीन एवं सऊदी देशों में इसका उपयोग पारम्परिक दवाइयां तैयार करने में किया जाता है. सांप की कीमत के बारे में पूछने पर डीएफओ ने कहा कि मूल्य सांप की लम्बाई, वजन और समय के अनुसार बदलता रहता है, परंतु इतना तो जरूर है कि इसकी कीमत करोड़ों रुपये में है. उन्होंने माना कि बोकारो में हाल के दिनों में इस तरह का मामला पहली बार सामने आया है. महाराष्ट्र में इन दिनों लगभग हरेक महीने इस तरह के मामले सामने आते हैं. पाकिस्तान, ईरान, भारत आदि देशों में यह सांप पाया जाता है. जानकारों के अनुसार यह सांप विषहीन होता है तथा कई लोग काला जादू में भी इसका इस्तेमाल करते हैं.