युवराज सिंह ने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास लिया

नई दिल्ली. युवराज सिंह ने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास लिया. भारतीय क्रिकेट का वो सितारा जिसके बल्ले से छह बॉल में छह छक्के निकले थे, वो अब अंतराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेलेगा. 2011 में भारत ने जब विश्वकप जीता था, उसके हीरो यूवी ही थे. यानी मैन ऑफ द सीरीज युवराज सिंह को ही मिला था. ये और बात है कि उसके बाद उन्हें पहले तो कैंसर ने झकझोड़ा लेकिन उसके बाद भी युवराज फिर खड़े हुए फिर से वो टीम इंडिया में शामिल हुए लेकिन फिर उनकी फिटनेस पे सवाल उठने लगे. आईपीएल में वो खेलते रहे हैं. लेकिन अंतराष्ट्रीय मैच उन्होंने आखिरी बार वेस्ट इंडीज के खिलाफ 30 जून 2017 में खेला था. इस बार के विश्व कप में उनका चयन नहीं हो पाया. 10 जून, सोमवार के दिन युवराज सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाया, जिसमें उन्होंने अपने रिटार्यमेंट की घोषणा की.

12 दिसंबर 1981 को चंडीगढ़ में भूतपूर्व क्रिकेट खिलाड़ी योगराज सिंह के यहाँ सिख पंजाबी परिवार में यूवी का जन्म हुआ था. 30 नवंबर 2016 को युवराज ने हेज़ल कीच से शादी रचाई. यूवी ने 20-20 विश्व कप 2007 में इंग्लैंड के खिलाफ एक ओवर की 6 गेंदों में 6 छक्के मार कर विश्व रिकॉर्ड बनाया. इसके साथ ही 20-20 में 12 गेंदों में अर्धशतक बनाने का विश्व रिकॉर्ड भी उनके नाम है. युवराज सिंह को 2011 क्रिकेट विश्व कप में अहम भूमिका निभाने में मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट चुना गया. इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब, पुणे वॉरियर्स इंडिया, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, दिल्ली डेयरडेविल्स, और सनराइजर्स हैदराबाद से खेल चुके हैं.

ये भी पढ़ें- ये क्या! जयराम ठाकुर को क्रिकेट खेलने में लगी चोट

युवराज सिंह भारत के लिए अबतक 40 टेस्ट, 308 वनडे और 58 टी-20 मैच खेल चुके हैं. टेस्ट क्रिकेट में 33.92 की औसत से युवराज ने 1900 रन बनाए हैं. वहीं वनडे फॉर्मेट में युवराज के नाम 8701 रन दर्ज हैं. टी-20 क्रिकेट में युवराज सिंह ने 1177 रन बनाए हैं. कहा जा रहा है कि युवराज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं और वह आईसीसी से मान्यता प्राप्त विदेशी ट्वेंटी-20 लीग में फ्रीलांस करियर बनाना चाहते हैं. बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने हाल में बताया था कि युवराज अंतरराष्ट्रीय और प्रथम श्रेणी क्रिकेट से संन्यास के बारे में सोच रहे हैं. युवराज सिंह ने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच साल 30 अक्टूबर 2000 में केन्या के खिलाफ खेला था. वहीं उन्हें पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच 16 अक्टूबर 2003 में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था.