बिहार : रूपेश हत्याकांड में खुलासा, वारदात से पहले अपराधी रख रहे थे स्टेशन हेड की गतिविधि पर नजर

बिहार : रूपेश हत्याकांड में खुलासा, वारदात से पहले अपराधी रख रहे थे स्टेशन हेड की गतिविधि पर नजर
Source - Internet

पटना. मंगलवार शाम को इंडिगो स्टेशन हेड की हत्या के बाद पूरे राज्य में सनसनी फैल चुकी है. पुलिस द्वारा मामलें की जांच के लिए SIT का गठन किया गया. जिसके कारण अब हत्याकांड में खुलासों का सिलसिला शुरू हो गया है.

ताजा जानकारी के मुताबिक वारदात को अंजाम देने से पहले अपराधियों द्वारा रुपेश की गतिविधियों पर पैनी नजर रखी जा रही थी. बदमाशों को पता था कि शंकर पथ स्थित कुसुम विलास अपार्टमेंट की सड़क का आखिरी छोर बंद है. इसलिए बदमाश अपार्टमेंट के आखिरी छोर के पास छिपे थे. ऐसे में अपार्टमेंट की बालकनी में मौजूद लोग बदमाशों को देख भी नहीं पाए.

इंडिगो के स्टेशन हेड रुपेश सिंह ने जैसे ही शाम 7:15 बजे अपार्टमेंट के गेट के पास अपनी कार खड़ी की, वैसे ही बदमाशों ने उन पर गोलियां चलाना शुरू कर दी. इससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई. उनके सीने में 6 गोलियां लगी थीं. आनन- फानन में रूपेश को राजाबाजार स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

सीसीटीवी में मिले सुराग

मामले में जांच के लिए पुलिस ने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम का गठन कर दिया है. स्पेशल टीम पटना के पुनाईचक इलाके में हुई इस घटना के बाद आसपास के इलाकों में जांच के लिए पहुंची है. इस दौरान पुलिस को हत्याकांड में एक अहम सुराग मिला है. दरअसल रुपेश के अपार्टमेंट के पास के एक सीसीटीवी कैमरे में एक बाइक पर जाते हुए दो लोग देखे हैं जिसके बाद उनकी तलाश पटना पुलिस ने तेज कर दी है.