‘शहादत को सलाम‘ में मुख्यमंत्री ने युद्धवीरों को किया नमन

‘शहादत को सलाम‘ में मुख्यमंत्री ने युद्धवीरों को किया नमन

जयपुर. मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने मंगलवार को जैसलमेर के वार म्यूजियम पहुंचकर जैसलमेर निवासी शहीद सैनिक योद्धाओं को नमन किया. मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम में युद्ध वीरांगनाओं, शहीद आश्रितों और शौर्यचक्र प्राप्त सैनिकों को सम्मानित किया. उन्होंने वार म्यूजियम परिसर में खजूर का पौधा लगाकर वृक्षारोपण किया.

मुख्यमंत्री ने ‘शहादत को सलाम‘ कार्यक्रम के अन्तर्गत शोक धुन के साथ जैसलमेर के योद्वाओं की शहादत के प्रति पुष्पचक्र चढाकर श्रद्वांजलि अर्पित की. उन्होंने शौर्यचक्र प्राप्त युद्ध सैनिकों, सेना मेडल प्राप्त सैनिकों, युद्ध विकलांग, शहीद वीरांगनाएं तथा शहीद आश्रितों को इस अवसर पर सम्मानित भी किया.

इसके तहत मुख्यमंत्री ने शौर्यचक्र प्राप्त छोटूसिंह, वर्ष 1971 के युद्व में ‘मेनसन इन डिस्पेच अवार्ड‘ प्राप्त रिसालदार प्रयागसिंह, सेना मेडल प्राप्त सुबेदार अनूपसिंह, युद्व विकलांग पूर्व सैनिक सगतसिंह, सीनियर वैटर्न कम्यूटेशन कार्ड प्राप्त कैप्टन आमसिंह, सीनियर वैटर्न कैप्टन अमरसिंह को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया.

उन्होंने शहीद वीरांगनाओं में राधा पत्नी सूबेदार शहीद पर्वतसिंह, दाखों कवंर, सुआ कंवर पत्नी पैराटू्रपर नखतसिंह, शायर कंवर पत्नी नायक अमरसिंह, पदम कंवर पत्नी उदयसिंह सोढा, बबरी देवी पत्नी नायक सूबेदार किशोरसिंह, पेंपों देवी पत्नी कांस्टेबल रमणलाल और नायक नरपतसिंह की पत्नी को भी शॉल ओढ़ाकर शहीदों की शहादत को नमन किया.

राजे ने शहीदों के आश्रितों गवलसिंह पुत्र उतमसिंह, आश्रित इस्माइलखां पुत्र इंस्पेक्टर फतेहखां मेहर, आश्रित कालूदान शहीद सिपाही रामसिंह के भाई, आश्रित शिवदानसिंह पिता लांस नायक वीर बहादुरसिंह को सम्मानित किया. मुख्यमंत्री ने ‘वार म्यूजियम‘ परिसर में खजूर का वृक्ष भी लगाया.

मुख्यमंत्री राजे ने मानव श्रृंखला में शामिल होकर बढ़ाया हौसला:

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे जैसलमेर वार म्यूजियम के सामने मानव श्रृंखला में स्वंय शामिल होकर प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाया. मानव श्रृंखला में हर पीढ़ी के प्रतिभागियों के साथ स्वंय राष्ट्रगान संवेद स्वरों में गाकर शहीदों की शहादत को नमन किया. मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर तिरंगे गुब्बारों को आसमान से उड़ाकर देशभक्ति के संदेश देकर प्रोत्साहित भी किया.