15,000 किलोमीटर की मैराथन दौड़ते हुए सोलन पहुंचे समीर सिंह

युवा अल्ट्रा मैराथन धावक समीर सिंह शहीदों के परिवार को आर्थिक मदद के लिए

सोलन. युवा अल्ट्रा मैराथन धावक समीर सिंह शहीदों के परिवार को आर्थिक मदद के लिए विश्व की अब तक की सबसे बड़ी मैराथन (15000 कि.मी) दौड़ रहे हैं. शहीदों की मदद के लिए समीर सिंह ने बागा बार्डर से पहली दिसंबर 2017 को मैराथन शुरू की थी. शनिवार को समीर सिंह अपने कैन्याई कोच क्रू क्री और अपने छोटे भाई प्रहलाद सिंह के साथ सोलन पहुंचे. यहां सोलन की इंटरनेशनल मैराथन रनर कल्पना परमार ने उनका स्वागत किया. सोलन में वह समीर का हौसला बढ़ाने के लिए कुछ किलो मीटर उनके साथ भी दौड़ी. कल्पना ने बताया कि वह समीर को पहले से जानती है और वह साथ में मुंबई मैराथन में भाग ले चुके हैं.

ये भी पढ़ें- हिमाचली किसानों को ऋण दिलवाती जयराम सरकार

सोलन पहुंचे अल्ट्रा मैराथन धावक समीर सिंह ने मिडिया से हुई बातचीत में बताया कि करीब 15000 किलो मीटर की मैराथन की मैराथन को पूरी करने के लिए 15 से 20 दिन का समय लगेगा. वह अभी तक 12 हजार 500 किलो मीटर की दूरी तय कर चुके हैं. उन्होंने बताया कि हिमाचल में सिरमौर से सोलन, सोलन से शिमला होते हुए मनाली से श्रीनगर पहुंचेंगे. समीर सिंह की इस अल्टा मैराथन दौड़ को सफल बनाने के लिए फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार ने स्पांसर किया है. उन्होंने कहा कि विश्व की सबसे बड़ी मैराथन में दौड़ रहे है.

2007-08 से वह मैराथन दौड़ रहे हैं

गौर हो कि फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार स्वयं भी शहीद परिवारों की मदद के लिए समय समय पर आगे आते हैं. 6 माह पहले शुरू हुई अल्टा मैराथन के दौरान समीर सिंह ने जहां जनवरी-फरवरी कड़ाई की ठंड का सामना किया है, वहीं गर्मियों में लू की परवाह न करते हुए लगातार दौड़ रहे हैं. समीर सिंह मूलत: मध्यप्रदेश के मनसौर जिला के रहने वाले हैं. समीर भगवान कृष्ण के भक्त हैं और राधे-राधे बोल कर ही अपनी दौड़ शुरू करते हैं. उन्होंने बताया कि वृंदावन से ही उन्होंने मैराथन की शुरूआत की. वर्ष 2007-08 से वह मैराथन दौड़ रहे हैं. इस मैराथन में वह प्रतिदिन 70 से 100 किलोमीटर दौड़ रहे हैं.