पोयला बैशाख के मौके पर स्कूली बच्चों ने दी राजभवन में सांस्कृतिक प्रस्तुति

रांची. राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि हमारे देश में विभिन्न जाति, धर्म एवं सम्प्रदाय के लोग एकजुट होकर रहते हैं. यह विविधता में एकता का अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता है. राज्यपाल ने गुरुवार को राज भवन में पोयला बैशाख और बैशाखी पर्व के उपलक्ष्य में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि सभी की कला-संस्कृति अत्यंत ही समृद्ध है और विश्वपटल पर विशिष्ट पहचान है.

राज्यपाल ने कहा कि पोयला बैशाख जहां बंग समुदाय के लोग नव वर्ष के रूप में मनाते हैं. वहीं बैशाखी सिख समुदाय नव वर्ष के रुप में मनाते हैं. इसे कृषि पर्व भी कहा जा सकता है.

उन्होंने कहा कि आज कोई भी पर्व-त्योहार किसी जाति, धर्म विशेष तक ही नहीं सीमित रहा है. सभी लोग एक-दूसरे का पर्व मना रहे हैं जो आपसी भाईचारे की भावना को सुदृढ़ करती है. इसलिये कहा गया है कि पर्व-त्योहार हर्षोल्लास के साथ आपसी भाईचारा के सुदृढ़ीकरण का भी प्रतीक है.

मौके पर एलएलइबीबी स्कूल और गुरुनानक स्कूल के बच्चों के साथ अंशुमन दास ने अपनी कला का प्रदर्शन किया. राज्यपाल ने सभी बच्चों की ओर से प्रदर्शित कला की सराहना की और कहा कि उनमें असीम कला-प्रतिभा निहित है. उन्होंने कहा कि विगत वर्ष से राज भवन में सभी पर्व-त्योहार मनाया जाता है तथा बच्चों को बुलाया जाता है.

सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन एलएलइबीबी स्कूल और गुरुनानक हायर सेकेंडरी स्कूल, राँची की ओर से किया गया था. मौके पर दोनों विद्यालय के शिक्षक और राजभवन के कर्मचारी मौजूद रहे.