स्वयं सहायता समूह जागृति को प्रथम पुरस्कार

सुंदरनगर (मंडी). जायका के माध्यम से संचालित फसल विविधिकरण प्रोत्साहन योजना के तहत सुव्रतो तालुकदार, प्रधान विकास विशेषज्ञ, जायका इंडिया के नेतृत्व में अफगानिस्तान के अधिकारियों का एक समूह मंडी जिला के दौरे पर सुन्दरनगर पहुंचासुन्दरनगर के सैंजी कोठी व टकवाड उप-परियोजना के दौरा पर पहुंचे अधिकारियों के समूह ने विशेष तौर से टकवाड़ से फोटो वोल्टिक सोलर वाटर पंप के माध्यम से चल रही उठाऊ सिंचाई परियोजना को सराहा.

हिमाचल प्रदेश फसल विविधिकरण प्रोत्साहन परियोजना जायका के सहयोग से प्रदेश के पांच जिलों मंडी, कांगड़ा, हमीरपुर, ऊना तथा बिलासपुर में चलाई जा रही है . परियोजना के तहत 210 उप परियोजनाओं में लगभग 3712 हैक्टेयर भूमि को सुनिश्चित सिंचाई के तहत लाते हुए फसल विविधिकरण का लक्ष्य रखा गया है . परियोजना के तहत जहां एक ओर किसानों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाई गई है, वहीं दूसरी ओर आधुनिक तकनीक को ध्यान में रखते हुए पावर टिल्लर, पावर बिडर, सोलरपंप, टूल किट जैसे उपकरण किसानों को वितरित किए गये हैं .

सुन्दरनगर में संग्रहण केंद्र पर महिला गोष्ठि का भी आयोजन किया गया. महिला गोष्ठि में सहभागी महिलाओं को पुरस्कार भी बांटे गए, जिसमें स्वयं सहायता समूह जागृति, उप परियोजना लिगरी से छिडबढानु को प्रथम पुरस्कार, स्वयं सहायता समुह गियून उप परियोजना त्रिभून को द्वितीय व स्वयं सहायता समूह लक्ष्मी उप परियोजना उखला को तृतीय जबकि जालपा स्वयं सहायता समूह कराड़ी कडयोल, नव दुर्गा स्वयं सहायता समूह, थौना माही नव शिव शक्ति स्वयं सहायता समूह खनोट को प्रोत्साहन पुरस्कार दिए गए.

समूह के साथ इशिजाकी, मुख्य सलाहकार, डा. जे.सी. राणा, मुख्य परियोजना सलाहकार, डा. विनोद कुमार, परियोजना निदेशक एवं परियोजना के अन्य गणमान्य पदाधिकारी भी उपस्थित रहे.

कॉमेंट करें

अपनी टिप्पणी यहाँ लिखें
अपना नाम यहाँ लिखें