‘बढ़ती जनसंख्या, घटते संसाधन’ विषयक संगोष्ठी में भाग लेंगे शांता

सोलन. देश में बढ़ती जनसंख्या एक गंभीर समस्या है. जनसंख्या बढ़ने के साथ ही संसाधनों में भी कमी आती जा रही है. इस विषय पर 12 अगस्त को स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार की अध्यक्षता में जनसंख्या नियंत्रण जन जागरण मंच एवं स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग सोलन द्वारा ‘बढ़ती जनसंख्या, घटते संसाधन’ विषय पर संगोष्ठी आयोजित की जाएगी.

पूर्व केंद्रीय मंत्री, एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार बतौर मुख्य वक्ता मौजूद होंगे. संगोष्ठी के संचालक राजेश कश्यप ने ये जानकारी शनिवार को आयोजित प्रेस वार्ता में दी. उन्होंने कहा कि वर्ष 1975 में तत्कालीन सरकार द्वारा जनसंख्या नियंत्रण के लिए कड़े कदम उठाए गए थे. इसे जनता पर थोपा गया था. नतीजन सरकार पर ही जनसंख्या नियंत्रण कार्यक्रम भारी पड़ गया और सत्ता से हाथ धोना पड़ा था. लेकिन वर्तमान सरकार का मानना है कि इस विषय में जनता को जागरूक करना अति आवश्यक है और लोगों के सहयोग से ही इस मुहिम को सफल बनाया जा सकता है.

उन्होंने कहा कि आज जनसंख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है. फलस्वरूप संसाधन घटते जा रहे हैं. अगर ऐसे ही जनसंख्या बढ़ती रही तो अगले दस वर्षों में देश ये आंकड़ा चीन को भी पर कर जाएगा. जबकि चीन ने अब जनसंख्या पर ज़ीरो ग्रोथ रेट हासिल कर लिया है.

हिमाचल प्रदेश के सोलन से ये जन जागरण कार्यक्रम की शुरुआत की जा रही है, जो आने वाले दिनों में अन्य जिलों में भी आयोजित की जाएंगी. सोलन के मुरारी मार्केट हाल में इसका आयोजन दोपहर करीब ढाई बजे आरम्भ होगा. इसमें अधिक से अधिक लोगों के पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है.