देश की बढ़ती आबादी पर शांता ने जताई चिंता

हिमाचल में आई नई उद्योग निति से उद्योग और पर्यटन को लगेंगे पंख : शांता कुमार -Panchayat Times
साभार इंटरनेट
शिमला. भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद शांता कुमार ने कहा है कि लगातार बढ़ती आबादी की समस्या अब कई क्षेत्रों में बर्बादी का कारण बनती जा रही है. असम की गरीब घर की एक बेटी बिकते-बिकते ऊना पहंची है. गरीबी की मजबूरी में गरीब प्रदेशों की बेटियां बेची जाती हैं, खरीदी जाती हैं और विदेशों में भी भेजी जाती हैं. इस शर्मनाक परिस्थिति का एक मात्र कारण कुछ क्षेत्रों में भयंकर गरीबी है और इस गरीबी का सबसे बड़ा कारण बढ़ती आबादी है.
 उन्होंने कहा है कि 28 वर्ष की एक लड़की दिल्ली में फेफड़ों के कैंसर से पीड़ित है. डाक्टरों ने कहा है कि बढ़ते प्रदूषण से दिल्ली की हवा जहरीली हो गई है और उसी के कारण दमा और कैंसर तक की बिमारियां फैल रही हैं. देश की राजधानी विश्व की सबसे अधिक प्रदूषित गैस चैम्बर बन गई है.
शांता कुमार ने कहा है कि बढ़ती आबादी के दबाव से अवैध बस्तियां बस रही हैं. मकान बनाने के लिए अवैध खनन हो रहा है. कई प्रकार के नये माफिया पैदा हो रहे हैं. खनन रोकने वाले अधिकारियों को कई जगह पीटा और मारा गया है. बढ़ती आबादी के दबाव में अवैध निर्माण व भूमि पर अतिक्रमण बढ़ रहा है.
उन्होंने कहा है कि केन्द्र की मोदी सरकार दिन-रात नई योजनाओं के द्वारा देश को खुशहाल बनाने की कोशिश कर रही है. बहुत-सी योजनाओं का लाभ होना भी शुरू हुआ है परन्तु सब योजनाएं नीचे तक पहुंचते-पहुंचते प्रशासन की कमजोरी, भ्रष्टाचार और बढ़ती आबादी के कारण एक सीमा तक असफल हो रही हैं.
शांता कुमार ने कहा है कि पिछले पांच वर्षों से वे लगातार इस संबंध में बोलते लिखते और अपनी बात सब जगह पहुंचाते रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को दो बार पत्र लिखा और कई बार इस विषय पर चर्चा भी हुई है. उन्हें प्रसन्नता है कि मोदी ने उनकी बात ध्यान से सुनी और शीघ्र इसका समाधान करवाने का आश्वासन भी दिया है.