धूमधाम से मनाया गया झारखंड के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों का जन्मदिन

झारखंड के दो मुख्यमंत्रियों का जन्मदिन है. झारखंड मुक्ति मोर्चा - Panchayat Times

रांची. आज झारखंड के दो मुख्यमंत्रियों का जन्मदिन है. झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) अध्यक्ष शिबू सोरेन 75 साल के हो गए वहीं, राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री और जेवीमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी 61वें साल में प्रवेश कर गए हैं. दोनो ही दलों में आज उल्लास का दिन है. नेता-कार्यकर्ता पूर्व मुख्यमंत्रियों को बधाई दे रहे हैं.

शिबू सोरेन को पार्टी नेताओं व कार्यकर्ताओं ने दी जन्मदिन की बधाइयां

जन्मदिन के लिये  झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) अध्यक्ष शिबू सोरेन के 75वें जन्म दिन पर शुक्रवार को मोरहाबादी स्थित उनके आवास पर पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने उन्हें बधाई तथा दीर्घायु होने की शुभकामनाएं दी. इस मौके पर 75 पौंड का केक काटा गया.

इस मौके पर दिशोम गुरु शिबू सोरेन भावुक हो गए. उन्होंने पुराने दिनों को याद करते हुए कहा कि जिन लोगों के लिए आंदोलन किया, अलग राज्य बनवाया, उसका लाभ उन्हें नहीं मिला. सक्षम अधिकारी फाइलों में उलझ कर रह गए हैं, उन्हें गांव एवं देहातों में जाकर मूलवासी-आदिवासियों की समस्याओं का निदान करना चाहिए.

बधाई देने वालों में पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष हेमन्त सोरेन, युवा मोर्चा के अध्यक्ष बसंत सोरेन, महासचिव विनोद कुमार पाण्डेय, सुप्रियो भट्टाचार्य, प्रवक्ता अभिषेक प्रसाद पिंटू, मनोज कुमार पाण्डेय, कोषाध्यक्ष रवि केजरीवाल, महिला मोर्चा की अध्यक्षा महुआ माजी, बुद्धिजीवी मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष डॉ. जावेद अहमद, पूर्व विधायक सह कार्यकारिणी सदस्य अमित कुमार, जिलाध्यक्ष मुश्ताक आलम, रांची जिला सचिव अंतु तिर्की, रांची जिला कोषाध्यक्ष नितिन अग्रवाल सहित सैकड़ों नेता शामिल थे.

मूल सिद्धांतों से कभी भटक नहीं सकता इसीलिए लोग कठोर कहते हैं : बाबूलाल मरांडी

झारखण्ड विकास मोर्चा (झाविमो) ने राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री और पार्टी अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी का 61वां जन्मदिन समर्पण दिवस के रूप में मनाया. इस मौके पर बाबूलाल मरांडी ने कहा कि नीति एवं सिद्धांत ही उनकी ताकत है. इसी का पालन करने के कारण लोग उन्हें कठोर कहते हैं. उन्होंने कहा कि अपने मूल सिद्धांतों से वे कभी भटक नहीं सकते.

मरांडी शुक्रवार को राजधानी के डिबडीह स्थित पार्टी कार्यालय में उनके जन्मदिन पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने दावा किया कि आज झाविमो को कोई नजरअंदाज नहीं कर सकता. 2014 के बाद जो परिस्थितियां बनी थीं, उसके बाद झाविमो का अस्तित्व समाप्त माना जा रहा था लेकिन राज्य की जनता पर भरोसे के कारण उस समय कहा था कि 2019 तक इंतजार कीजिये. आज लोग लगातार झाविमो से जुड़ रहे हैं और जनता इस पार्टी को उम्मीद के साथ देख रही है.

झाविमो मरांडी के जन्मदिन को समर्पण दिवस के रूप में मना रहा है. इस मौके पर रांची महानगर ईकाई की ओर से कई कार्यक्रम आयोजित किये गये. राजधानी रांची के डिबडीह स्थित पार्टी कार्यालय में मुख्य कार्यक्रम आयोजित किया गया. वहां बाबूलाल मरांडी ने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के बीच केक काटा और कार्यकर्ताओं को खिलाया.

इससे पूर्व कार्यक्रम में सर्वधर्म प्रार्थना सभा की गयी. इसमें तमाम धर्मगुरुओं ने प्रार्थना कर मरांडी की लम्बी उम्र और अच्छी सेहत की कामना की. आचार्य ललन भारद्वाज और उनके सहयोगी आचार्य मुन्ना पंडित, आचार्य बाबू पंडित, आचार्य विनोद पंडित, आचार्य अमरेन्द्र पंडित ने शंखनाद एवं रक्षा सूत्र बांधकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया. इस अवसर पर पर पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मरांडी को पुष्प गुच्छ देकर और पगड़ी पहनाकर जन्मदिन की बधाई दी. इस मौके पर झाविमो महासचिव प्रदीप यादव, केके पोद्दार, केन्द्रीय सचिव राजीव रंजन मिश्रा, महानगर अध्यक्ष सुनील गुप्ता, महासचिव जितेन्द्र वर्मा, प्रकाश कुमार, पंकज पांडेय, तौहिद आलम आदि शामिल थे.