गर्मी बढ़ते ही पहाडों की रानी शिमला पर्यटन सीजन के लिए तैयार

गर्मी बढ़ते ही शिमला में उमड़ने लगे पर्यटक
प्रतीक चित्र

शिमला. देश के मैदानी भागों में तप के साथ ही पहाडों की रानी शिमला में पर्यटन सीजन के लिए तैयार है. शिमला में देश-विदेश से लाखों पर्यटक गर्मियों में ठंकड का मजा लेने आते हैं. अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन राम सुभग सिंह ने मंगलवार को बताया कि इस वर्ष पानी की कोई कमी नहीं है. इसलिए पिछले वर्ष की तरह शिमला में इस बार पानी की समस्या की कोई सम्भावना नहीं है. इसके अलावा शिमला में पानी की आपूर्ति के लिए 10 एमएलडी पानी चाबा से उपलब्ध कराया जाएगा.

उन्होंने सम्बन्धित प्राधिकारियों को गर्मी के मौसम में उचित और नियमित रूप से पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए. गौरतलब है कि बीते वर्ष शिमल में गर्मियों में पर्यटक सीजन में पानी की भंयकर कमी हुई थी. जिससे प्रशासन में पर्यटकों से शिमला न आने तक की अपील की थी. जबकि स्थानीय जनता भी पानी को लिए बुरी तहर तरस्त रही थी.

ग्रीष्म पर्यटन सीजन की व्यवस्था की समीक्षा के लिए संबंधित विभागों के साथ मंगलवार को हुई बैठक के दौरान शिमला शहर में यातायात नियंत्रण के नियमों पर जोर देते हुए राम सुभग सिंह ने पुलिस विभाग और जिला प्रशासन से कहा कि शहर और नजदीकी पर्यटन स्थलों में यातायात को सुचारु बनाए रखने के लिए उचित कदम उठाएं. पर्यटकों और स्थानीय नागरिकों को किसी प्रकार की असुविधा न हो. उन्होंने नेशनल हाईवे प्राधिकरण और राज्य लोक निर्माण विभाग को सड़क के किनारों से निर्माण सामग्री हटाने के निर्देश दिए.

गर्मी बढ़ते ही पहाडों की रानी शिमला पर्यटन सीजन के लिए तैयार
प्रतीक चित्र

उन्होंने गर्मी के मौसम के दौरान शिमला में भारी यातायात की समस्या को ध्यान में रखते हुए मैहली व भेखलटी बाईपास को सक्रिय बनाने और पार्किंग स्थलों की जानकारी उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए. कुफरी और नालदेहरा जैसे पर्यटन स्थलों तक पहुंचने के लिए पर्यटकों को उचित दिशा-निर्देश देने के लिए बोर्ड और डिजिटल मॉनिटर स्थापित करने के भी निर्देश दिए.

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने पर्यटकों की सुविधा के लिए पर्यटन विकास निगम को पर्यटन सीजन के दौरान रात 11:30 बजे तक लिफ्ट को कार्यशील रखने के भी निर्देश दिए. इसके अतिरिक्त बैठक में पर्यटकों के मनोरंजन के लिए मॉल पर चयनित स्थलों पर सांस्कृतिक संध्याएं, लोक संगीत व बैण्ड शो आदि आयोजित करने का भी निर्णय लिया गया.