सायरन ने जब सनसना शुरू किया, शिमलावालों की सांसे अटक गई…

शिमला में मॉल रोड से सटे सीटीओ (बीएसएनएल) भवन में लगे सायरन
प्रतीक चित्र

शिमला. राजधानी शिमला में मॉल रोड से सटे सीटीओ (बीएसएनएल) भवन में लगे सायरन के अचानक शाम के समय बजने से शहर में अफरा-तफरी मच गई. सायरन शाम को 7.10 बजे बजा. आम दिनों में यह सायरन सुबह 10 बजे सरकारी दफ्तरों के शुरू और शाम पांच बजे छुट्टी होने पर ही बजता है. इसके अलावा इसको तभी बजाया जाता है जब शहर में कोई एमरजेंसी हो.

रविवार शाम करीब 7:10 पर सीटीओ सायरन अचानक बज उठने से मालरोड और इसके आसपास के लोग, दुकानदार और रिज सकते में आ गए. लोगों का लगा कि कोई एमरजेंसी हो गई है. लेकिन बाद में पूछताछ में पता चला कि इसको बजाया नहीं गया बल्कि यह खुद ब खुद बज गया था. सायरन बजाने का काम फायर कंट्रोल रूम मालरोड को दिया गया है. वहां इसमें बाकयदा ताला लगा रहता है. रविवार को भी यह पूरी तरह से बंद था.

ये भी पढ़ें- नाबालिग को कार में बिठाकर छेड़ा, शिमला पुलिस ने किया गिरफ्तार

अचानक सायरन बजने से जहां लोग सकते में आ गए, वहीं पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारियों के फोन फायर कंट्रोल रूम में घनघनाने लगे. डीएसपी प्रमोद शुक्ला का कहना है कि जांच में पाया गया है कि इसको जानबूझ कर नहीं बजाया गया. या तो बंदरों के तारों के छेड़ने या किसी अन्य तकनीकी वजह से यह बजा है.