कुफरी और डलहौजी समेत कई इलाकों में बर्फबारी

ओलों की सफेद चादर से ढका शिमला और कुफरी, ठंड फिर लौटी - Panchayat Times
प्रतीक चित्र

शिमला. हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी इलाकों ने एक बार फिर बर्फ की सफेद चद्दर ओढ़ ली है. पर्यटन स्थलों कुफरी और डलहौजी सहित ऊंचे क्षेत्रों में बीती रात से बर्फबारी हो रहा है. राजधानी शिमला और राज्य के निचले स्थानों पर वर्षा का क्रम जारी है.

मौसम विभाग की तरफ से अगले 24 घंटों के दौरान भारी बारिश व बर्फबारी की चेतावनी जारी की गई है. मौसम विज्ञान केंद्र शिमला से प्राप्त जानकारी के मुताबिक कुफरी में चार और डलहौजी में दो सेंटीमीटर ताजा बर्फबारी दर्ज किया गया है. इसके अलावा किन्नौर के कल्पा में सात और लाहौल स्पीति के केलंग में पांच सेंटीमीटर बर्फ गिरी है.

शिमला जिला के जुब्बल से सटे खड़ा पत्थर और चौपाल के खिड़की नामक स्थान पर हिमपात से सड़कें अवरुद्ध हो गई हैं. मौसम में आये इस बदलाव से राज्यभर में सर्दी का प्रकोप बढ़ गया है. आधा दर्जन शहरों में न्यूनतम तापमान माइनस में पहुंच गया है. लाहौल-स्पीति का जिला मुख्यालय केलंग राज्य में सबसे ठंडा रहा, जहां सोमवार सुबह न्यूनतम तापमान – 8 डिग्री दर्ज किया गया.

किन्नौर के कल्पा में न्यूनतम तापमान -3.8, कुफरी में -2.9, मशोबरा में -2.6, मनाली में -0.8 और डलहौजी में -0.7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ. इसके अतिरिक्त सियोबाग में 1.5, शिमला में 1.7, भुंतर में 4, धर्मशाला में 4.2, जुब्बड़हट्टी में 5, नाहन में 5.3, पालमपुर में 5.5, चम्बा में 7.4, सुंदरनगर में 7.9, बिलासपुर में 8.1, हमीरपुर में 8.2 और ऊना में 9.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि अगले तीन दिन राज्य में व्यापक बारिश व हिमपात के आसार हैं. 22 फरवरी तक पूरे प्रदेश में मौसम खराब रहेगा. इस बीच मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मद्देनजर राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने कुल्लू, चम्बा, शिमला, लाहौल-स्पीति व किन्नौर जिलों के प्रसाशन को किसी भी आपदा की सूरत में सरकारी मशीनरी को तैयार रखने के निर्देश दिए हैं.