हिमाचल के कई इलाकों में बर्फबारी, रोहतांग दर्रा बंद

हिमाचल के कई इलाकों में बर्फबारी, रोहतांग दर्रा बंद-Panchayat Times
प्रतीक चित्र

शिमला. हिमाचल प्रदेश में मौसम ने एक बार फिर करवट बदली और उच्च पर्वतीय इलाकों में बर्फबारी का दौर शुरू हो गया है. जनजातीय जिलों लाहौल-स्पीति, किन्नौर सहित चंबा के पांगी और कुल्लू की उंची चोटियों पर रुक-रुक कर  बर्फ गिर रही है. कांगड़ा जिला की धौलाधार की पहाड़ियों पर भी बर्फबारी हुई है.

लाहौल-स्पीति के कोकसर, सिस्सू और गोंदला में करीब 4 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई है. इसी तरह किन्नौर जिले के कल्पा में दो सेंटीमीटर बर्फ दर्ज की गई है. बर्फबारी के कारण रोहतांग दर्रे को वाहनों की आवाजाही के लिए एहतियातन बंद कर दिया गया है.

लाहौल-स्पीति के उपायुक्त अश्वनी कुमार चौधरी ने बताया कि रेस्क्यू पोस्ट कोकसर और मढ़ी से बर्फबारी को लेकर मिले इनपुट के आधार प्रशासन ने मौसम साफ होने तक रोहतांग दर्रा होकर वाहनो की आवाजाही रोक दी है. ऐसे हालात में सफर करना जोखिम भरा हो सकता है.

इस बीच मौसम में आए इस बदलाव से समुचे प्रदेश में ठंड बढ़ गई है. राजधानी शिमला और आसपास के इलाकों में सुबह तो मौसम साफ था. लेकिन, दोपहर होते होते एक बार फिर आसमान बादलों से ढकने लगा. इस दौरान बर्फीली हवाओं के चलते ठिठुरन बढ़ गई.

मौसम विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक बीते चौबीस घंटों के दौरान लाहौल-स्पीति जिले का केलांग सबसे ठंडा रहा, जहां न्यूनतम तापमान माइनस 4.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. इसके अलावा किन्नौर के कल्पा में माइनस 0.9, मनाली में 0.8, कुफरी में 1.2, सुंदरनगर में 2.1, भुंतर, सोलन और डल्हौजी में 3.4, शिमला में 3.8, चंबा में 4.1, मंडी में 4.2, पालमपुर में 4.5, उना में 5, बिलासपुर में 5.6, हमीरपुर में 5.9, कांगड़ा में 6.3 और धर्मशाला में 7 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ.

मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि आगामी दो दिन प्रदेशभर में मौसम के साफ रहने की संभावना है. लेकिन, 9 दिसम्बर से पर्वतीय इलाकों में फिर से हिमपात का दौर शुरू हो सकता है, उन्होंने कहा कि 11 व 12 दिसम्बर को राज्य के मैदानी और मध्य पर्वतीय इलाकों में गरज के साथ वर्षा के आसार हैं.