कुफरी सहित कई ऊंचे क्षेत्रों में बर्फबारी से बढ़ी ठंड

शिमला. हिमाचल प्रदेश में मौसम के तेवर बिगड़ने से लोगों की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ गई हैं. प्रदेश के कुफरी और नारकंडा में सहित ऊंचे क्षेत्रों में गुरुवार को बर्फबारी होने से ठंड बढ़ गई है. निचले इलाकों में कुछ स्थानों पर वर्षा हुई. मौसम विभाग ने अगले दो दिन बारिश और बर्फबारी का दौर जारी रहने की संभावना जताई है.


लाहौल-स्पीति, किन्नौर, कुल्लू और चंबा जिलों की पर्वत श्रंखलाओं पर व्यापक बर्फबारी हो रही है. पर्यटन स्थलों पर ताजा हिमपात हुआ. शिमला शहर में हल्की ओलावृष्टि हुई. बारिश और बर्फबारी की वजह से तापमान गिर गया है, जिससे ठंड का प्रकोप बढ़ गया है. शिमला सहित चार जिलों का पारा शून्य से नीचे पहुंच गया है.

लाहौल-स्पीति जिले का केलंग सबसे ठंडा स्थल रहा, जहां न्यूनतम तापमान -7.3 डिग्री सेल्सियस रिकाॅर्ड किया गया. किन्नौर के कल्पा में न्यूनतम तापमान -4.5 डिग्री, कुफरी में -1 डिग्री और मनाली में -0.8 डिग्री सेल्सियस रहा. इसके अलावा डल्हौजी में न्यूनतम तापमान 1.4, शिमला में 2.3, सोलन में 3.5, धर्मशाला में 4.6, भुंतर में 4.8, मंडी में 5, पालमपुर में 5.5, चंबा में 5.8, उना में 7, कांगड़ा में 7.9, हमीरपुर में 8.8, बिलासपुर में 9 और नाहन में 11.8 डिग्री सेल्सियस रिकाॅर्ड किया गया.

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि 18 जनवरी तक पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी और मैदानों में बारिश का दौर जारी रह सकता है. 19 जनवरी को मौसम साफ हो जाएगा. 20 से 22 जनवरी तक मौसम फिर तल्ख रहेगा और अधिकांश स्थानों पर बारिश और बर्फबारी का अनुमान है.

इस बीच 10 दिन पहले हुए भारी हिमपात से अवरुद्ध सड़कें अभी तक बहाल नहीं हो पाई हैं. अभी भी 165 सड़कों पर वाहनों की आवाजाही ठप है.सबसे अधिक 93 सड़कें शिमला जोन में अवरूद्ध हैं. इनमें रामपुर सर्कल की 72 और रोहड़ू सर्कल की 18 सड़कें शामिल हैं. कांगड़ा जोन की 42 सड़कें बंद हैं. सभी अवरूद्ध सड़कें डल्हौजी सर्कल की हैं.


मंडी जोन में 27 सड़कें बंद हैं, इनमें कुल्लू की 15 और मंडी सर्कल की 12 सड़कें शामिल हैं. सड़कों को बहाल करने के लिए लोनिवि ने 209 के करीबी मशीनरी लगाई है. इनमें 169 जेसीबी, 21 डोजर और 19 टिप्पर शामिल हैं. विभाग के मुताबिक बर्फबारी से सड़कों को अब तक 122 करोड़ का नुकसान हुआ है.