सोलन की सेब मंडी इन दिनों सेबों से हुई गुलजार

सोलन की सेब मंडी इन दिनों सेबों से हुई गुलजार
सोलन. बरसात के चलते सोलन सेब मंडी को बंद किए जाने की अफवाहों के बीच सेब कारोबार पर खासा मंदा असर पड़ा है. कहा जा रहा था कि सोलन में शिमला बाई पास में नेशनल हाईवे 5 पर स्थित सब्जी मंडी के सामने ही मिट्टी भरान कर उसके ऊपर सेब का कारोबार किया जाता है. बरसात के चलते दल-दल होने के कारण सेब मंडी को बंद कर दिया गया है. लेकिन हकीकत इससे बिल्कुल उलट पाई गई है. वहां की तस्वीरें कुछ और ही बयान करती नजर आई.
सोलन सेब मंडी में सेब से लदे ट्रक आ रहे हैं और एजेंट वहां से सेब को अन्य राज्यों में भी बेचने के लिए भेज रहे हैं. सेब कारोबार में लगे एजेंट ने बताया कि ये केवल अफवाह फैलाई गई है जबकि मंडी में स्थिति बिल्कुल सामान्य है और यहां सेब कारोबार बेहतर तरीके से हो रहा है. सेब का कारोबार बंद रखने की अफवाह किसने और क्यों फैलाई है, इसका अभी तक कोई खुलासा नहीं हो पाया है.
सोलन की सेब मंडी इन दिनों सेबों से हुई गुलजार
तोमर फ्रूट एंड वेजिटेबल कम्पनी के नाम से सेब का कारोबार कर रहे कवि राज तोमर ने बताया कि इस अफवाह के चलते किसान काफी डर गए हैं. उन्होंने कहा कि ऐसी अफवाहें फैलाना गलत है जिसका कारोबार पर विपरीत असर पड़ता है. उनका कहना था कि ऐसी अफवाहों के चलते किसानों में इस बात का भय देखने को मिला कि कहीं सोलन सेब मंडी में कारोबार बंद पड़ा है तो उन्हें अपना माल बेचने के लिए दूसरी मंडियों में जाना पड़ेगा. जबकि यहां एक भी दिन के लिए सेब की खरीद फरोख्त का कारोबार बंद नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि इस अफवाह से काम पर खासा असर पड़ा है, जो एजेंट और किसानों के लिए परेशानी बना है.
सोलन की सेब मंडी इन दिनों सेबों से हुई गुलजार
सोलन सेब मंडी शिमला से ऊपरी क्षेत्रों से आने वाले किसानों के लिए अधिक सुविधापूर्ण है. क्योंकि ये मंडी नेशनल हाईवे  पर ही स्थित है. जिस कारण किसान यहां आसानी से अपने सेब का मूल्य जांचकर बेच सकता है. सोलन सेब मंडी के आढ़तियों ने कहा कि इस तरह की अफवाहों पर किसान विश्वास ना करें और बेझिचक अपनी सेब की फसल लेकर आ सकते हैं.