राजस्थान के इस गांव में 12 बजे तक पड़े केवल 17 वोट

ग्रामीणों ने विधानसभा चुनाव का बहिष्कार किया है. इन गांवों के मतदान केंद्रों...
प्रतीक चित्र

जयपुर. राजस्थान के भरतपुर, अजमेर, उदयपुर और जोधपुर समेत कुछ जिलों के कई गांवों में स्थानीय समस्याओं को लेकर ग्रामीणों ने विधानसभा चुनाव का बहिष्कार किया है. इन गांवों के मतदान केंद्रों पर अभी भी सन्नाटा पसरा हुआ है.

जानकारी के अनुसार धौलपुर के राजाखेड़ा विधानसभा क्षेत्र के सेमर का पुरा गांव के ग्रामीणों ने रास्ता नहीं होने की बात को लेकर मतदाताओं ने मतदान का बहिष्कार कर दिया. 486 मतदाताओं वाले इस गांव में दोपहर बारह बजे तक मात्र 17 वोट पड़े. जानकारी मिलने पर प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और समझाइश शुरू की.

भरतपुर जिले के बैर विधानसभा क्षेत्र में भुसावर मतदान केंद्र पर पांच घंटे गुजर जाने के बाद भी मतदान प्रारम्भ नहीं हुआ है. पास में बारोली के मतदान केन्द्र पर बहिष्कार चल रहा है. प्रशानिक अधिकारी ग्रामीणों को समझा रहे हैं लेकिन वे वोट देने को अब तैयार नहीं हुए. गांव में मूलभूत सुविधा न होने से नाराज ग्रामीण मतदान का बहिष्कार कर रहे हैं.

इसी तरह बारा विधानसभा क्षेत्र के पाली मतदान केंद्र पर मतदान का बहिष्कार जारी है. वहां के लोग बांध बनवाने की मांग को लेकर अभी तक मतदान का बहिष्कार कर रहे हैं. हालांकि तहसीलदार के समझाने के बाद गांव वालों ने मतदान करना प्रारम्भ कर दिया. गंगानगर के घड़साना में भी ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया है. वहां के लोग आबादी भूमि मंजूर करवाने की मांग कर रहे हैं. यद्यपि नेता लोग ग्रामीणों को समझाने में लगे हैं, लेकिन वे जनप्रतिनिधियों के आश्वासन पर विष्वास करने को तैयार नहीं हो रहे हैं.

उदयपुर के झाड़ोल क्षेत्र में स्थित सरवण मतदान केंद्र के ग्रामीण भी मतदान के बहिष्कार पर अडिग हैं. उनका कहना है कि क्षेत्र में मूलभूत सुविधाओं का अभाव है. इसलिए गांव वालों ने मतदान न करने का फैसला लिया है. करीब एक बजे तक वहां एक भी वोट नहीं पड़ा था. रामगंजमंडी विधानसभा क्षेत्र के दूणकली गांव के मतदाताओं ने भी स्थानीय समस्याओं को लेकर मतदान का बहिष्कार किया था, लेकिन अधिकारियों के समझााने पर वहां मतदान प्रारम्भ होने की खबर है. मसूदा विधानसभा के जैतपुरा बूथ संख्या 80 पर मतदान बहिष्कार चल रहा है. कांग्रेस प्रत्याशी राकेश पारीक मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को समझाने की कोशिश कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें – राजस्थान विधानसभा चुनाव : एक बजे तक 41.53 प्रतिशत मतदाताओं ने डाला वोट

पीने के पानी की मांग को लेकर अजमेर उत्तर विधानसभा, भाग संख्या 71 के मतदाताओं ने मतदान का बहिष्कार किया है. बताया जा रहा है कि इलाके में नौ दिन से पीने का पानी नहीं आ रहा है. इससे वहां के लोग नाराज हैं. उधर करौली के टोडाभीम विधानसभा क्षेत्र के राजपुर गांव में भी पेयजल की समस्या के निराकरण न होने से ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार कर दिया है. इसी तरह चिड़ावा विधानसभा के कुतुबपुरा गांव और टोंक के काचरिया गांव में ग्रामीणों द्वारा मतदान के बहिष्कार की खबर है. अधिकारी मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को समझाने की कोशिश कर रहे हैं.

पांच दिसम्बर को शाम पांच बजे से चुनाव प्रचार का शोर बंद हो जाएगा...
प्रतीक चित्र

धौलपुर में राजाखेड़ा विधानसभा के गांव सेमरपुरा में मतदान का बहिष्कार जारी है. लोगों ने रास्ते को लेकर मतदान का बहिष्कार किया है. समाचार लिखे जाने तक एक भी मतदाता ने वोट नहीं दिया. मसूदा के जेतपुरा गांव में भी ग्रामीणों ने अभी तक मतदान नहीं किया. वे कलेक्टर को बुलाने की मांग पर अड़े हैं. वहां सड़क, बिजली और पानी जैसी समस्याओं को लेकर मतदान का बहिष्कार हो रहा है. इसके अलावा जोधपुर जिले में भोपालगढ़ विधानसभा सभा क्षेत्र के मैलावास गांव के लोगों ने अपनी समस्याओं को लेकर आज मतदान का बहिष्कार कर दिया है. सुबह से एक भी मतदाता मतदान करने नहीं पहुंचा. इससे मतदान केंद्र पर सन्नाटा पसरा हुआ है.