बजट में सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र पर खास ध्यान दिया गया

बजट में सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र पर खास ध्यान दिया गया-Panchayat Times
फाइल फोटो

शिमला. मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने बजट में हर क्षेत्र को छूने का प्रयास किया गया है. उन्होंने कहा कि यह बजट चुनाव की दृष्टि से नहीं बनाया गया है, बल्कि इसमें संसाधनों को जुटाने का प्रयास किया गया है. इसके तहत इस साल जून में इन्वेस्टर मीट का आयोजन किया जाएगा.

विधानसभा में बजट पेश करने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट में 15 नई योजनाओं का प्रावधान किया गया है, जबकि पिछले बजट की 30 योजनाओं को भी चालू रखा गया है. बजट में कोई भी नया कर नहीं लगाया गया है. आपातकाल के दौरान मेंटेनेंस ऑफ इंटरनल सिक्योरिटी एक्ट (मीसा) और डिफेंस ऑफ इंडिया रूल्स (डीआईआर) के तहत हुई गिरफ्तारियों से प्रताड़ित व्यक्तियों को 11,000 रुपए वार्षिक लोकतंत्र प्रहरी सम्मान राशि प्रदान करने की घोषणा की गयी है. इसके अतिरिक्त आम आदमी का पूरा ध्यान रखा गया है. जबकि कर्मचारी वर्ग को चार फीसदी महंगाई भत्ता और अस्थाई शिक्षकों के मानदेय में बढ़ोतरी कर राहत देने की घोषणा की है.

ठाकुर ने कहा कि बजट में सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र पर खास ध्यान दिया गया है. सामाजिक सुरक्षा पेंशन में बढ़ोतरी की गई और कृषि क्षेत्र में कई नए कदम उठाए गए हैं. उज्जवला योजना में मिलने वाली गैस को छोड़कर एक अतिरिक्त रिफिल सिलेंडर देने का फैसला लिया है. इससे दो लाख परिवारों को लाभ होगा. 45 वर्ष से कम आयु की विधवाओं को कौशल विकास योजना में शामिल करने की घोषणा की है. इसके अतिरिक्त इन्हें नर्सिंग और आईटीआई में प्रवेश के लिए 10 फीसदी आरक्षण देने का भी प्रावधान किया है. करुणामूलक आधार पर दी जाने वाली नौकरियों के लिए अब कर्मचारी की आयु सीमा 50 से बढ़ाकर 58 साल करने की घोषणा की है.

इसके अतिरिक्त पीटीए, पैरा और एसएमसी अध्यापकों के मानदेय को बढ़ाने का प्रावधान किया गया है. इन्हें अब सरकारी अध्यपकों की तर्ज पर न्यूनतम वेतन मिलेगा.  मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट में सभी कार्यशील पदों को भरने का भी प्रावधान किया गया है.