रोहतांग की आॅनलाइन परमिट व्यवस्था की निगरानी करेगी विशेष टीम

कुल्लू. उपायुक्त यूनुस ने कहा है कि पर्यटक स्थल रोहतांग और मढ़ी के लिए ऑनलाइन परमिट की व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए त्वरित कदम उठाए जा रहे हैं, ताकि पर्यटकों को किसी भी तरह की असुविधा न हो.

होटल के गार्ड को अगवा कर पीटा, अधमरा हालत में सड़क पर फेंका

ऑनलाइन परमिट की व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण को लेकर मंगलवार को पर्यटन विभाग और एनआईसी के अधिकारियों के साथ बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ने कहा कि इस संबंध में पर्यटकों और अन्य वाहन चालकों की ईमेल के माध्यम से प्राप्त होने वाली सभी शिकायतों का त्वरित निपटारा किया जाएगा. अगर किन्हीं कारणों से किसी आवेदक की ऑनलाइन फीस कटने के बाद भी परमिट नहीं मिल पाता है, तो उसके पैसे बैंक के माध्यम से वापस किए जाएंगे.

बनाई गई है विशेष टीम

ऑनलाइन परमिट व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण और इसकी निगरानी के लिए एक विशेष टीम बनाई गई है. यह टीम परमिट के अलावा पेमेंट व अन्य प्रक्रियाओं पर भी लगातार नजर रखेगी.

महिलाओं ने दुकान लगाने के लिए समय मांगा, ईओ बोले- धक्के मारकर बाहर निकालो

उपायुक्त ने बताया कि रोहतांग को लेकर एनजीटी के आदेशों की अनुपालना सुनिश्चित की जा रही है. इसके मद्देनजर जिला प्रशासन ने ऑनलाइन परमिट जारी करने के लिए सुबह दस बजे और शाम चार बजे का समय निर्धारित किया है. इन दोनों समय में केवल 1200 गाड़ियों को ही ऑनलाइन परमिट दिया जा रहा है.

उपायुक्त ने कहा कि गुलाबा बैरियर या किसी पर्यटक स्थल पर कोई परेशानी होने पर पर्यटक एसडीएम मनाली, जिला पर्यटन विकास अधिकारी और जिला प्रशासन से शिकायत कर सकते हैं.

लगाए गए हैं सीसीटीवी कैमरे

यूनुस ने कहा कि बैरियरों पर संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं और इन बैरियरों पर तैनात किए जाने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों को 15 दिनों के भीतर बदल दिया जाता है. उन्होंने कहा कि पर्यटकों की सुविधा और एनजीटी के आदेशों की अनुपालना के मद्देनजर सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं.