विद्यार्थियों को सुरक्षित परिवहन सुविधा के लिए प्रदेश सरकार कृतसंकल्प : डॉ. सैजल

सोलन. सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता तथा सहकारिता मंत्री डॉ. राजीव सैजल ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य के सभी विद्यार्थियों को सुरक्षित परिवहन सुविधा प्रदान करने के लिए कृतसंकल्प है. इस दिशा में सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों, राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण तथा प्रदेश सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देशों का अक्षरश: पालन सुनिश्चित किया जाएगा. डॉ. सैजल ने शनिवार को सोलन जिले के विभिन्न विद्यालयों में परिवहन सुरक्षा संबंधी दिशा-निर्देशों की अनुपालना संबंधी बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे.

डॉ. सैजल ने कहा कि बच्चों की सुरक्षा हम सभी का दायित्व है. उन्होंने कहा कि बच्चों को स्कूल लाने और ले जाने के लिए सुरक्षित परिवहन व्यवस्था सभी के सहयोग से उपलब्ध करवाई जाएगी. उन्होंने कहा कि हाल ही में कांगड़ा जिले के नूरपुर में हुए दु:खद हादसे में अनेक नौनिहालों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा. यह हादसा हम सभी के लिए एक और चेतावनी है. उन्होंने कहा कि बच्चों को सुरक्षित परिवहन व्यवस्था उपलब्ध करवाने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं.

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने कहा कि इस संबंध में सर्वोच्च न्यायालय ने विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं. प्रदेश सरकार ने भी परिवहन सुरक्षा संबंधी निर्देश जारी किए हैं. उन्होंने आग्रह किया कि इन निर्देशों के संबंध में प्रदेश सरकार को अपने सुझाव प्रेषित करें ताकि पूर्ण रूप से सुरक्षित परिवहन व्यवस्था सुनिश्चित हो सके.

डॉ. सैजल ने कहा कि कानून की अनुपालना सभी का दायित्व है. उन्होंने जिले में कार्यरत टैक्सी संचालकों से आग्रह किया कि प्रदेश सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देशों की अनुपालना में सहयोग दें. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार संवेदनशील सरकार है. उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि दिशा-निर्देशों की अनुपालना से किसी को बेवजह परेशानी का सामना न करना पड़े.

उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से दिशा-निर्देशों को अंतिम रूप देने के उपरांत इस विषय पर लोगों को जागरूक बनाने के लिए विभिन्न स्तरों पर जागरूकता शिविर आयोजित किए जाएंगे. बैठक में क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी सोलन को निर्देश दिए गए कि वे टैक्सी संचालकों तथा स्कूल प्रबंधन के मध्य वाहनों के संचालन के लिए होने वाले अनुबंध का मानक परिपत्र एक सप्ताह में तैयार करें.

उपायुक्त सोलन विनोद कुमार ने कहा कि प्रदेश सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देश बच्चों की सुरक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं.

पुलिस अधीक्षक सोलन मोहित चावला ने आग्रह किया कि परिवहन संबंधी सुरक्षा मानकों की अनुपालना के साथ-साथ विभिन्न स्कूल प्रबंधन बच्चों की सुरक्षा के लिए अन्य उपाय भी अपनाएं. उन्होंने विद्यालयों में सीसीटीवी कैमरा स्थापित करने, विद्यालय में कार्यरत सहयोगी कर्मचारियों की सुरक्षा जांच सुनिश्चित बनाने तथा विद्यालय में विभिन्न आपदाओं से निपटने के लिए लगाई गई प्रणालियों की नियमित जांच का आग्रह किया.

क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी सोलन नरेंद्र चौहान ने दिशा-निर्देशों की विस्तृत जानकारी प्रदान की. उन्होंने कहा कि विद्यालय द्वारा संचालित बसों एवं पथ परिवहन निगम की बसों के अतिरिक्त केवल वही टैक्सी संचालक परिवहन सुविधा उपलब्ध करवा पाएंगे जिन्होंने इस संबंध में स्कूल प्रशासन के साथ अनुबंध किया हो.

उन्होंने कहा कि दिशा-निर्देशों के अनुसार प्रत्येक स्कूल बस एवं वाहन में ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम की व्यवस्था अनिवार्य है. एक ऐसी ऐप विकसित की जाएगी जिसके माध्यम से अभिभावकों और विद्यालय प्रबंधन को वाहन की सही लोकेशन की जानकारी प्राप्त हो सके. प्रत्येक विद्यालय को परिवहन प्रबंधक नामित करना होगा. स्कूल के बच्चों को ले जाने वाली बस तथा वाहन के पीछे तथा सामने प्रमुखता से स्कूल बस लिखा जाना अनिवार्य है. उन्होंने कहा कि ये दिशा-निर्देश प्रदेश सरकार, परिवहन विभाग, उच्च शिक्षा विभाग तथा प्राथमिक शिक्षा विभाग की वेबसाईट पर उपलब्ध है.

बैठक में जिला परिषद सदस्य शीला, भाजपा मंडल सोलन के अध्यक्ष रविंद्र परिहार, सोलन व्यापार मंडल के अध्यक्ष मुकेश गुप्ता, सोलन भाजपा मंडल उपाध्यक्ष धर्मेंद्र ठाकुर, अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी विवेक चंदेल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. शिव कुमार, उपमंडलाधिकारी सोलन आशुतोष गर्ग, उपमंडलाधिकारी कंडाघाट संजीव धीमान, पुलिस उपाधीक्षक बद्दी खजाना राम, विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी, स्कूल प्रबंधक, अभिभावक तथा टैक्सी संचालक मौजूद रहे.