डिग्री फर्जीवाड़े पर जल्द हो कड़ी कार्रवाई

डिग्री फर्जीवाड़े पर जल्द हो कड़ी कार्रवाई-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

सोलन. सोलन सहित प्रदेश के अन्य जिलों में निजी विश्विद्यालयों और शिक्षण संस्थानों के खुलने की पिछले कुछ समय में बाढ़ सी आ गई थी. जिससे प्रदेश का नाम शिक्षा हब के नाम से सुर्खियां बटोर रहा था. वहीं अब दो निजी विश्विद्यालयों कि ओर से डिग्रियां बेचने के फर्जीवाड़ा सामने आने से प्रदेश की छवि धूमिल होती दिखाई दे रही है. ये बात कहां तक सच है इसका पता तो जांच एजेंसियों की जांच के बाद ही सामने आ सकेगा. लेकिन उससे पूर्व छात्र संघ में खासा रोष व्याप्त है.

इसके चलते मंगलवार को सोलन में छात्र संघ एनएसयूआई ने प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. एनएसयूआई के छात्रों ने इस पर संज्ञान लेने के लिए मंगलवार को सोलन मिनी सचिवालय के बाहर जमकर धरना प्रदर्शन किया और मामले को लेकर उपायुक्त के माध्यम से महामहिम राज्यपाल को एक ज्ञापन भी सौंपा.

एनएसयूआई के जिला अध्यक्ष तुषार स्तान के नेतृत्व में यह प्रदर्शन किया गया. एनएसयूआई के जिला अध्यक्ष तुषार स्तान ने कहा कि यूजीसी ने प्रदेश सरकार को पहले ही पत्र लिख कर सोलन और शिमला स्थित दो निजी विश्विद्यालयो कि ओर से पिछले करीब 7-8 वर्षों में करीब पांच लाख से भी अधिक डिग्रियां बेचने बारे सचेत कर दिया था. बावजूद इसके प्रदेश सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया.

उन्होंने आरोप लगाया कि यह प्रकरण सरकार के नज़दीकी लोगों की संलिप्तता होने संलिप्त की पुष्टि के संकेत हैं. 2012 से पूर्व प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा एनएसयूआई के लाख विरोध के बावजूद भी राज्य में अंधाधुंध निजी विश्विद्यालय खोलने की अनुमति प्रदान की थी. जिसके चलते प्रदेश भर में कुल 18 निजी विश्वविद्यालय खोले गए थे. जिसमें से आठ विश्विद्यालय सोलन जिला में ही खोले गए हैं.

उन्होंने विज्ञापन के माध्यम से मांग करते हुए कहा है कि प्रदेश सरकार जल्द से जल्द इन दोनों निजी विश्वविद्यालयों की मान्यता रद्द करते हुए कड़ी कार्रवाई अमल में लाये ताकि भविष्य में कोई अन्य विश्विद्यालय प्रदेश की छवि को धूमिल करने के साथ ही छात्रों के भविष्य को बर्बाद न करे.