विदेश में काम दिलाने के नाम पर मंडी के 24 बेरोजगार लुटे

मंडी जिला के 24 बेरोजगार युवाओं को विदेश में रोजगार दिलाने के नाम पर...

सुंदरनगर. कमाने की चाह में विदेश गए हिमाचल के 13 युवको की रिहाई अभी तक हुई नहीं थी कि दूसरी तरफ विदेश जाने के नाम पर हिमाचल प्रदेश में सुंदरनगर की एक ट्रैवल एजेंसी ने मंडी जिला के 24 बेरोजगार युवाओं को विदेश में रोजगार दिलाने के नाम पर हाथ में टूरिस्ट वीजा थमा कर लगभग 20 लाख रुपयों की ठगी का शिकार बना लिया है. ट्रैवल एजेंसी ने सभी दस्तावेज नकली तैयार कर थमा दिए थे. वही अब ठगी का शिकार बने इन 24 युवाओं ने इसकी शिकायत बीएसएल पुलिस को दे दी है.

ट्रैवल एजेंट की ठगी का शिकार हुए सुंदरनगर निवासी अनिल शर्मा, चंदन, नरेश कुमार, रितेश ठाकुर, संजीव शर्मा, नेक राम, शेर सिंह, हेम राज, जय प्रकाश, पुष्प राज, सुरज, शुभम और बल्ह निवासी अजय कुमार ने लिखित शिकायत पत्र में सुंदरनगर के बीबीएमबी कॉलौनी स्थित एएच ग्लोबल केरियर मेकरज के डाईरेक्टर राज गुप्ता, एएसआर ग्लोबल सोलूशन्स के डाईरेक्टर सुरेश कुमार और उनकी पत्नी रेखा पर विदेश में नौकरी दिलाने के लिए वीजा में धोखाधड़ी करने के गंभीर आरोप लगाए गए हैं.

ये भी पढ़ें- मंडी के 13 लोगों को सऊदी अरब में बंधक बनाया गया

पीड़ित युवाओं ने कहा कि उपरोक्त लोगों द्वारा सभी युवाओं को संयुक्त अरब अमीरात की अल-हिब्बा कंस्ट्रशन कंपनी में कार्य करने की बात बता कर झांसे में लेकर 80-80 हजार रुपए ले लिए गए हैं. उन्होंने कहा कि इसके बदले में उन्हें संयुक्त अरब अमीरात का टूरिस्ट वीजा और गल्फ एयरलाइंस के फ्रॉड एयर टिकट भी दिए गए. युवाओं ने कहा कि जब वह दिल्ली एअरपोर्ट पर पंहुचे तो यह सुनकर उनके पैरों तले से जमीन खिसक गई कि वीजा और हवाई जहाज की टिकटें फ्रॉड हैं.

इन पीड़ित युवाओं ने कहा कि जो मोबाइल नंबर उक्त ट्रैवल एजेंट ने उन्हें दिए थे वह सभी बंद हो चुके हैं. पीड़ित युवक अनिल शर्मा ने कहा कि उक्त ट्रैवल एजेंट द्वारा उन्हें दिया गया वीजा एंबेसी की वेबसाइट पर टूरिस्ट वीजा लिखा आ रहा था और एयरपोर्ट पर टिकटों की जांच करने पर बिना पेमेंट की हुई पाई गई. उन्होंने कहा कि एयरपोर्ट पर हम सभी को अधिकारियों द्वारा एक-एक करके साइड में बिठा दिया गया और हमें बताया गया की टिकटों की सिर्फ बुकिंग हुई है लेकिन भुगतान नहीं हुआ है. अनिल शर्मा ने कहा कि हमें वहां बताया गया की जो वीजा हमें दिया गया है वह वर्किंग वीजा न होकर टूरिस्ट वीजा है. उन्होंने कहा कि उक्त ट्रैवल एजेंटों ने उन्हें एक सप्ताह तक दिल्ली होटल में भी ठहरा कर रखा गया, लेकिन हमारी कोई फ्लाइट नहीं हुई. लेकिन जब युवको ने दस्तावेजों की जांच करवाई तो पाया की सभी दस्तावेज फर्जी हैं.

इन 24 युवाओं को दिल्ली एयरपोर्ट पर ट्रैवल एजेंसी द्वारा टिकट की पेमेंट का भुगतान कर दिया होता तो ये सभी युवक भी दूसरे मामले की तरह विदेश में फंसे 13 हिमाचलियों की तरह की विदेश में ही फस जाते. लेकिन अब सभी युवाओं ने बीएसएल कॉलौनी थाना से उक्त एजेंटों के खिलाफ कड़ी कानूनी कारवाई और उनसे प्राप्त की गई धन राशि को वापिस करवाने की गुहार लगाई है. वहीं समाजसेवी ब्रह्मदास चौहान ने कहा की प्रदेश में हजारो युवा कमाने की चाह में विदेश का रुख कर रहे है लेकिन उन्हें एजेंटो और ट्रैवल एजेंसीयो द्वारा ठगी का शिकार बनाया जा रहा है. उन्होंने सरकार और पुलिस से ऐसे एजेंटो और ट्रैवल एजेंसीयो पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है ताकि इस तरह का कोई और मामला सामने न आये.

जब हमने इस बारे में सच्चाई जानने के लिए उक्त ट्रैवल एजेंटों के विजिटिंग कार्ड पर दिए तीनों नंबरों पर फोन किया तो सभी नंबर बंद पाए गए. मंडी के एसपी गुरदेव चंद शर्मा से दूरभाष पर बात की गई तो उन्होंने कहा की युवको द्वारा दी गई शिकायत बीएसएल थाना कॉलोनी में प्राप्त हुई है शिकायत के आधार पर कार्रवाई की जा रही है.