सुप्रीम कोर्ट ने पठानकोट ट्रांसफर किया कठुआ गैंगरेप मामला, नहीं होगी सीबीआई जांच

नई दिल्ली. कठुआ गैंगरेप मामले को सुप्रीम कोर्ट ने पठानकोट कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया है. साथ ही कहा है कि मुकदमे की सुनवाई अदालत के बंद कमरे में होनी चाहिए. शीर्ष अदालत ने मामले में किसी देरी से बचने के लिये दैनिक आधार पर फास्ट ट्रैक सुनवाई करने का भी निर्देश दिया. पीड़िता का परिवार इस मामले की निष्पक्ष सुनवाई के लिए इस केस का ट्रांसफर चंडीगढ़ या किसी अन्य राज्य में चाहता था.

8 साल की मासूम के साथ-साथ हमारी संवेदनाओं का भी क़त्ल हो गया

शीर्ष अदालत ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग ठुकरा दी है. कोर्ट ने फैसला देते हुए कहा कि मामले की रोजाना सुनवाई और रिकॉर्डिंग भी होगी. सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर सरकार को पठानकोट कोर्ट के लिए अपना सरकारी वकील नियुक्त करने की भी इजाजत दे दी है और यह भी कहा है कि जम्मू-कश्मीर सरकार पीड़िता के परिवार, वकील और गवाहों को पूरी सुरक्षा दे. सुप्रीम कोर्ट में अब इस मामले की अगली सुनवाई 9 जुलाई को होगी.

वहीं जम्मू-कश्मीर सरकार केस को ट्रांसफर करने का विरोध कर रही थी. सरकार की दलील थी की उसके पास एक अलग दंड संहिता है और मुकदमे के स्थानांतरण (ट्रांसफर) से गवाहों को असुविधा होगी.